Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2023 · 1 min read

– रिश्तों को में तोड़ चला –

– रिश्तों को में तोड़ चला-

अपनो को में छोड़ चला,
रिश्तों को में तोड़ चला, रिश्तों का यह भवरजाल,
जिसमे है स्वार्थ भरा पड़ा,
उस भवरजाल को छोड़ चला,
उम्मीद और आशाओं का मायाजाल ,
विश्वास में अविश्वास मिला ,
तब में अपनो का आंगन छोड़ चला,
रिश्तों से यू मुख मोड़ चला,
अपनो को में छोड़ चला,
रिश्तों को में तोड़ चला,
भरत गहलोत
जालोर राजस्थान
संपर्क -7742016184-

Language: Hindi
95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वसुधैव कुटुंबकम है, योग दिवस की थीम
वसुधैव कुटुंबकम है, योग दिवस की थीम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं
शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं
Ritu Asooja
कँवल कहिए
कँवल कहिए
Dr. Sunita Singh
पिताजी का आशीर्वाद है।
पिताजी का आशीर्वाद है।
Kuldeep mishra (KD)
#प्रभा कात_चिंतन😊
#प्रभा कात_चिंतन😊
*Author प्रणय प्रभात*
दोस्त को रोज रोज
दोस्त को रोज रोज "तुम" कहकर पुकारना
ruby kumari
रेणुका और जमदग्नि घर,
रेणुका और जमदग्नि घर,
Satish Srijan
2491.पूर्णिका
2491.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जब-जब तानाशाह डरता है
जब-जब तानाशाह डरता है
Shekhar Chandra Mitra
जाते हो.....❤️
जाते हो.....❤️
Srishty Bansal
*रोज बदलते मंत्री-अफसर,बाबू सदाबहार 【हास्य गीत】*
*रोज बदलते मंत्री-अफसर,बाबू सदाबहार 【हास्य गीत】*
Ravi Prakash
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
" सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
If you do things the same way you've always done them, you'l
If you do things the same way you've always done them, you'l
Vipin Singh
రామయ్య మా రామయ్య
రామయ్య మా రామయ్య
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
फिर सुखद संसार होगा...
फिर सुखद संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सुबह सुबह की चाय
सुबह सुबह की चाय
Neeraj Agarwal
तुम्हारी बातों में ही
तुम्हारी बातों में ही
हिमांशु Kulshrestha
कभी कभी
कभी कभी
Shweta Soni
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
.
.
Amulyaa Ratan
दोहा- बाबूजी (पिताजी)
दोहा- बाबूजी (पिताजी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जां से गए।
जां से गए।
Taj Mohammad
आ भी जाओ
आ भी जाओ
Surinder blackpen
अवसर
अवसर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
Manisha Manjari
(10) मैं महासागर हूँ !
(10) मैं महासागर हूँ !
Kishore Nigam
ସାଧୁ ସଙ୍ଗ
ସାଧୁ ସଙ୍ଗ
Bidyadhar Mantry
बहुत कुछ जल रहा है अंदर मेरे
बहुत कुछ जल रहा है अंदर मेरे
डॉ. दीपक मेवाती
Loading...