Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 2 min read

रिश्तों के मायने

रिश्तों के मायने

एक ही माँ की कोख में पले।
एक ही पिता की उँगुली पकड़कर चलें।
एक ही आसमां के तले
धरती पर कदम रख
माँ के सानिध्य में ढले।
एक ही आंगन में,
ममता की छाव तले,
पले भी, रोए भी,रात में संग सोए भी।
फिर मेहनत की अपार,
तोड़ी सभी बंधनों की दीवार।
पैसों को बनाया जीवन का आधार ।
पार लगाई नईया स्वयं होकर सवार।
आगे तो पहुँच गए पर पीछे छूट गया परिवार।
जिसमें एक छोटा भाई था जिसके लिए उसका बड़ा था उसके जीवन का आधार।
वह न कर पाया वो अपने सपने साकार ।
ना बना पाया वह पैसों को अपने जीवन का आधार।
ना तोड़ पाया संघर्ष की दीवारों को,
नहीं बदल पाया अपने विचारों को।
जब पैसा बढ़ा, बड़े भाई में घमंड हुआ अपार
बहन ने भी माना, बड़े भाई ने किए है; अनेक उपकार।

रिश्तेदारी निभाता है सभी जगह दौड़ा चला आता है ।
क्या हुआ यदि वह अपने छोटे भाई के परिवार को नहीं चाहता है ?
निमंत्रण का न्यौता सब तरफ जाता हैं।
पर छोटे भाई का परिवार नहीं बुलाया जाता है।
बहन कुछ कह नहीं सकती,
शायद पैसे वाले भाई के बिना रह नहीं सकती।
देखो दुनिया का दस्तूर है।
दोगलापन निभाया जाता है।
व्हाट्सएप पर बड़े भाई का छोटे भाई के परिवार से प्यार दिखाया जाता है।
असल जीवन में रिश्ता नहीं भी दिखावे के लिए निभाया जाता है।
यह मेरी कहानी नहीं
अब खूनों में रवानी नहीं।
होता आया है, होता रहेगा ; अमीर भाई – बहन के द्वारा गरीब भाई- बहन पर अत्याचार।
मुझे समझ नहीं आता
जब चढ़ता है अमीरी का बुखार।
तब कहाँ जाते हैं माँ – बाप के दिए संस्कार।
क्यों अपने ही रिश्ते बलि चढ़ाए जाते हैं।
झूठी शान की खातिर,
अपनों के समक्ष, अपने ही खून के रिश्तों के शीश झुकाए जाते हैं।
क्या यही सब देखने की खातिर,
सरकार द्वारा ‘ हम दो हमारे दो’ के नारे लगवाए जाते हैं।

आभार सहित
रजनी कपूर

Language: Hindi
1 Like · 265 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rajni kapoor
View all
You may also like:
"" *माँ की ममता* ""
सुनीलानंद महंत
प्रेमचंद के उपन्यासों में दलित विमर्श / MUSAFIR BAITHA
प्रेमचंद के उपन्यासों में दलित विमर्श / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सही दिशा में
सही दिशा में
Ratan Kirtaniya
*मां तुम्हारे चरणों में जन्नत है*
*मां तुम्हारे चरणों में जन्नत है*
Krishna Manshi
पथ सहज नहीं रणधीर
पथ सहज नहीं रणधीर
Shravan singh
Right now I'm quite notorious ,
Right now I'm quite notorious ,
Sukoon
चौमासा विरहा
चौमासा विरहा
लक्ष्मी सिंह
हर कदम बिखरे थे हजारों रंग,
हर कदम बिखरे थे हजारों रंग,
Kanchan Alok Malu
मेरी फितरत ही बुरी है
मेरी फितरत ही बुरी है
VINOD CHAUHAN
वक्त यूं बीत रहा
वक्त यूं बीत रहा
$úDhÁ MãÚ₹Yá
हनुमान वंदना । अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो।
हनुमान वंदना । अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो।
Kuldeep mishra (KD)
बिखरे सपने
बिखरे सपने
Kanchan Khanna
"युद्ध नहीं जिनके जीवन में, वो भी बड़े अभागे होंगे या तो प्र
Urmil Suman(श्री)
अपनी सोच
अपनी सोच
Ravi Maurya
दो दोहे
दो दोहे
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
माँ तुम याद आती है
माँ तुम याद आती है
Pratibha Pandey
दाम रिश्तों के
दाम रिश्तों के
Dr fauzia Naseem shad
प्यार और मोहब्बत नहीं, इश्क है तुमसे
प्यार और मोहब्बत नहीं, इश्क है तुमसे
पूर्वार्थ
रंग कैसे कैसे
रंग कैसे कैसे
Preeti Sharma Aseem
नागपंचमी........एक पर्व
नागपंचमी........एक पर्व
Neeraj Agarwal
ईश्वर शरण सिंघल मुक्तक
ईश्वर शरण सिंघल मुक्तक
Ravi Prakash
चन्द्रशेखर आज़ाद...
चन्द्रशेखर आज़ाद...
Kavita Chouhan
वक्त
वक्त
Astuti Kumari
तुझसे है मुझे प्यार ये बतला रहा हूॅं मैं।
तुझसे है मुझे प्यार ये बतला रहा हूॅं मैं।
सत्य कुमार प्रेमी
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
*पापी पेट के लिए *
*पापी पेट के लिए *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"जख्म"
Dr. Kishan tandon kranti
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
बुंदेली दोहा -खिलकट (आधे पागल)
बुंदेली दोहा -खिलकट (आधे पागल)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
23/90.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/90.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...