Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2023 · 1 min read

रिश्तों का सच

हर रिश्ते का एक ही सच है,सोचो यह सच दूजे को बतायेगा कौन।
सोचो जरा अपने अपने दिल की बातें एक दूजे को फिर समझाएगा कौन।।
आज की दरार कल खाई बनेगी जब,हो जाते हो तुम भी मौन और वह भी मौन।
यदि दोनों ने अपनी चुप्पी नहीं तोड़ी,तो एक दूजे को समझाएगा कौन।।
तुम भी दुःखी और मैं भी दुःखी अब सोचो आगे हाथ बढ़ाएगा कौन।
जब दोनों ही नहीं राजी होंगे,तो सोचो एक दूजे को माफ कराएगा कौन।।
छोटी छोटी बातें यदि लगा लेंगे दिल पर तो अपने रिश्तों को निभाएगा कौन।
टूट की कगार पर पहुंचने से पहले माफ करने का बड़प्पन दिखाएगा कौन।।
अपने अपने अहम के कारण,यदि हम दोनों ही हो जायेंगें मौन।
क्या तुमने कभी यह सोचा है कि ऐसे समय में हमारे अहम को तोड़ेगा कौन।।
एक यदि कभी रूठ भी जाए तो दूसरे को उसको हर हाल में उसको मनाना है।
दोनों ही संग संग रूठ गए तो फिर सोचो तुम दोनों को मनाएगा कौन।।
कहे विजय बिजनौरी सोचो और समझो ये जीवन चार दिनों का मेला है।
अमल करने वाला रहे सुख से खुशी खुशी,जो अमल न करे वो अकेला है।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी

Language: Hindi
3 Likes · 148 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
आंखों की भाषा के आगे
आंखों की भाषा के आगे
Ragini Kumari
2985.*पूर्णिका*
2985.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ऐ ख़ुदा इस साल कुछ नया कर दें
ऐ ख़ुदा इस साल कुछ नया कर दें
Keshav kishor Kumar
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
surenderpal vaidya
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
घिन लागे उल्टी करे, ठीक न होवे पित्त
घिन लागे उल्टी करे, ठीक न होवे पित्त
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"यदि"
Dr. Kishan tandon kranti
नारी निन्दा की पात्र नहीं, वह तो नर की निर्मात्री है
नारी निन्दा की पात्र नहीं, वह तो नर की निर्मात्री है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
* चली रे चली *
* चली रे चली *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फक़त हर पल दूसरों को ही,
फक़त हर पल दूसरों को ही,
Mr.Aksharjeet
आज की प्रस्तुति: भाग 6
आज की प्रस्तुति: भाग 6
Rajeev Dutta
दुखता बहुत है, जब कोई छोड़ के जाता है
दुखता बहुत है, जब कोई छोड़ के जाता है
Kumar lalit
हाय हाय रे कमीशन
हाय हाय रे कमीशन
gurudeenverma198
जब जब तेरा मजाक बनाया जाएगा।
जब जब तेरा मजाक बनाया जाएगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
किसा गौतमी बुद्ध अर्हन्त्
किसा गौतमी बुद्ध अर्हन्त्
Buddha Prakash
प्यार के बारे में क्या?
प्यार के बारे में क्या?
Otteri Selvakumar
कभी शांत कभी नटखट
कभी शांत कभी नटखट
Neelam Sharma
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
Bhupendra Rawat
सुबह वक्त पर नींद खुलती नहीं
सुबह वक्त पर नींद खुलती नहीं
शिव प्रताप लोधी
Love is like the wind
Love is like the wind
Vandana maurya
आत्मीयकरण-1 +रमेशराज
आत्मीयकरण-1 +रमेशराज
कवि रमेशराज
रेणुका और जमदग्नि घर,
रेणुका और जमदग्नि घर,
Satish Srijan
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
Harsh Nagar
◆धर्म-गीत
◆धर्म-गीत
*Author प्रणय प्रभात*
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
Ravi Ghayal
ख़ुद के होते हुए भी
ख़ुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
रिश्ता
रिश्ता
अखिलेश 'अखिल'
*गुरु (बाल कविता)*
*गुरु (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Loading...