Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2023 · 1 min read

*रिश्ते*

रिश्ते
मम्मी पापा चाची ताई,
सबसे सुन्दर बहन भाई।
बुआ फूफा मौसा मौसी,
सब अच्छे हैं ना कोई दोषी।
मेरे चाचा मेरे ताऊ,
मोटे लाला लगते खाऊ।
दादा-दादी नाना-नानी,
सुनाते हमको खूब कहानी।
सास ससुर साला साली,
बोलो ऐसे ना हो गाली।
भाभी जीजा चचेर तहेर,
नई बहू चली पीहेर।
मां सबसे रिश्ता है खास,
सबसे ज्यादा इस पर विश्वास।।

6 Likes · 383 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar
View all
You may also like:
Keep saying something, and keep writing something of yours!
Keep saying something, and keep writing something of yours!
DrLakshman Jha Parimal
3109.*पूर्णिका*
3109.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिजरत - चार मिसरे
हिजरत - चार मिसरे
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*अधूरा प्रेम (कुंडलिया)*
*अधूरा प्रेम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अभाव और कमियाँ ही हमें जिन्दा रखती हैं।
अभाव और कमियाँ ही हमें जिन्दा रखती हैं।
पूर्वार्थ
रुपयों लदा पेड़ जो होता ,
रुपयों लदा पेड़ जो होता ,
Vedha Singh
तुम भी 2000 के नोट की तरह निकले,
तुम भी 2000 के नोट की तरह निकले,
Vishal babu (vishu)
ओ! मेरी प्रेयसी
ओ! मेरी प्रेयसी
SATPAL CHAUHAN
मैं अपने बिस्तर पर
मैं अपने बिस्तर पर
Shweta Soni
अजी सुनते हो मेरे फ्रिज में टमाटर भी है !
अजी सुनते हो मेरे फ्रिज में टमाटर भी है !
Anand Kumar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
कवि रमेशराज
शेयर मार्केट में पैसा कैसे डूबता है ?
शेयर मार्केट में पैसा कैसे डूबता है ?
Rakesh Bahanwal
Der se hi magar, dastak jarur dena,
Der se hi magar, dastak jarur dena,
Sakshi Tripathi
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
कवि दीपक बवेजा
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
Dr. Narendra Valmiki
कौशल
कौशल
Dinesh Kumar Gangwar
***
*** " चौराहे पर...!!! "
VEDANTA PATEL
** सावन चला आया **
** सावन चला आया **
surenderpal vaidya
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
"आँसू"
Dr. Kishan tandon kranti
बुद्ध धाम
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
चिराग़ ए अलादीन
चिराग़ ए अलादीन
Sandeep Pande
’वागर्थ’ अप्रैल, 2018 अंक में ’नई सदी में युवाओं की कविता’ पर साक्षात्कार / MUSAFIR BAITHA
’वागर्थ’ अप्रैल, 2018 अंक में ’नई सदी में युवाओं की कविता’ पर साक्षात्कार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आज़ाद जयंती
आज़ाद जयंती
Satish Srijan
हम तुम्हें लिखना
हम तुम्हें लिखना
Dr fauzia Naseem shad
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक दिन जब न रूप होगा,न धन, न बल,
एक दिन जब न रूप होगा,न धन, न बल,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
💐प्रेम कौतुक-520💐
💐प्रेम कौतुक-520💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अब तो आ जाओ सनम
अब तो आ जाओ सनम
Ram Krishan Rastogi
पुरखों का घर - दीपक नीलपदम्
पुरखों का घर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...