Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2023 · 1 min read

“रिश्ते टूट जाते हैं”

“रिश्ते टूट जाते हैं”
रिश्ते टूट जाते हैं
आपस की तकरार से
गलतफहमियों के शिकार से
हालात की मार से
वक्त के प्रहार से
दौलत औ’ रुतबे के अहंकार से
मनोवृत्तियाँ बीमार से
कभी गलत संस्कार से।

14 Likes · 8 Comments · 258 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
कजरी
कजरी
प्रीतम श्रावस्तवी
पधारो मेरे प्रदेश तुम, मेरे राजस्थान में
पधारो मेरे प्रदेश तुम, मेरे राजस्थान में
gurudeenverma198
*थर्मस (बाल कविता)*
*थर्मस (बाल कविता)*
Ravi Prakash
*जमीं भी झूमने लगीं है*
*जमीं भी झूमने लगीं है*
Krishna Manshi
आत्मज्ञान
आत्मज्ञान
Shyam Sundar Subramanian
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
Rj Anand Prajapati
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
Rituraj shivem verma
*क्या हुआ आसमान नहीं है*
*क्या हुआ आसमान नहीं है*
Naushaba Suriya
पहले भागने देना
पहले भागने देना
*Author प्रणय प्रभात*
आपको हम
आपको हम
Dr fauzia Naseem shad
प्रकृति
प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
वायदे के बाद भी
वायदे के बाद भी
Atul "Krishn"
पहचान
पहचान
Dr.Priya Soni Khare
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
शनि देव
शनि देव
Sidhartha Mishra
दुनिया मे नाम कमाने के लिए
दुनिया मे नाम कमाने के लिए
शेखर सिंह
If you have someone who genuinely cares about you, respects
If you have someone who genuinely cares about you, respects
पूर्वार्थ
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Er.Navaneet R Shandily
कोई पूछे तो
कोई पूछे तो
Surinder blackpen
सदविचार
सदविचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बेटी
बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Help Each Other
Help Each Other
Dhriti Mishra
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
Hitanshu singh
मां तुम बहुत याद आती हो
मां तुम बहुत याद आती हो
Mukesh Kumar Sonkar
नारियों के लिए जगह
नारियों के लिए जगह
Dr. Kishan tandon kranti
23/164.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/164.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बढ़ता उम्र घटता आयु
बढ़ता उम्र घटता आयु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
विधवा
विधवा
Acharya Rama Nand Mandal
बिटिया विदा हो गई
बिटिया विदा हो गई
नवीन जोशी 'नवल'
भोर काल से संध्या तक
भोर काल से संध्या तक
देवराज यादव
Loading...