Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2016 · 4 min read

“रिंगटोन” (दिलों की)

रिंगटोन
******

“क्या सोच रही है सोना ?” कॉलेज के गार्डन में किताब खोलकर निगाहें आकाश में जमाए सोनाली से धौल जमाते हुए उसकी सहेली विन्नी ने पूछा ।
“आउच ..मारा क्यों ..कब आई तू ?”सोनाली ने मुंह बनाकर कहा ।
“जब तू दिन में तारे गिन रही थी ” ठहाका लगाकर विन्नी ने कहा और सोना की किताब बंद करते हुए वहीं बैठ गई।दोनों सहेलियां खिलखिला उठीं।
“और बता कैसी रही बुआ के बेटे की शादी ?कब आई तू? पूरे पांच दिन हो गए हम दोनों को मिले … बहुत मिस कर रही थी तुझे ..” विन्नी ने सवाल , शिकायत , शिकवे सबकी एक साथ झड़ी लगा दी । दोनों बेस्ट फ्रेंड जो थीं।
सोना ने विन्नी का हाथ पकड़कर मुस्कुरा कर कहा ” मैने भी अपनी सहेली को बहुत मिस किया .. कल रात ही आई .. अच्छी रही शादी ..बहुत मजे किए.. बहुत प्यारी भाभी आई हैं” ।
“बहुत अच्छी बात है ” विन्नी ने बैग से एक चॉकलेट निकालकर दो हिस्से किए और एक सोना को दे दिया ।
चॉकलेट खाते हुए सोना ने कहा “विन्नी तुझे पता है मुझे कौन सा गाना पसंद है ?”
“हां .. ‘मोह मोह के धागे ‘ यही तो पसंद है तुझे ..” विन्नी ने कहा ” दिन भर में चार पांच बार यही तो सुनती रहती है और मुझे भी बोर कर दिया है जबरदस्ती सुना सुनाकर ” विन्नी ने मजाक बनाते हुए कहा ।
“चल हट” सोनाली ने विन्नी के गाल पर हल्की सी थपकी जमाई ” पता है कल जब हम बुआ के घर से आ रहे थे तब कोई बाइक पर उनके घर आया और विन्नी जब वो बाइक से उतर रहा था तब उसका मोबाइल बजा और पता है उसके फोन की रिंगटोन भी यही थी ‘मोह मोह के धागे’ “।
“सोना मतलब ये गाना तूने अपने नाम खरीद लिया है क्या कि कोई और सुन भी नहीं सकता ? हद है” विन्नी ने झल्लाते हुए कहा।
“अरे नहीं यार .. बस देखना चाहती थी कि मेरे जैसी पसंद और किसकी हो सकती है .. वैसे भी आजकल के लड़के तो हनी सिंह के गाने लगाते हैँ रिंगटोन..
पर हेलमेट लगा था तो देख नहीं पाई ..”सोनाली ने कहा।
“ओहो तो ये बात है .. मैडम को बिन देखे प्यार हो गया है वो भी रिंगटोन पर .. हहाहाहा … सोना तू न अजीब है .. कोई अंकल भी तो हो सकते थे ” विन्नी बमुश्किल अपनी हंसी रोककर बोली ।
” पागल है क्या ” सोना थोङा गुस्से में बोली ” प्यार व्यार ऐसे थोड़े न होता बस कुतूहल था और विश्वास भी इंसान जो भी हो अच्छा इंसान होगा ..और कुछ नहीं .. ” अच्छा चल क्लास का टाइम हो गया है ”
दोनों क्लास की ओर चल दीं।
कुछ एक महीने बाद सोनाली कॉलेज से घर आई तो ड्राइंग रुम में कुछ रिश्तेदार बैठे हुए थे। सबको अभिवादन करते हुए थकी हुई सोना अपने रूम में आकर बैड पर पसर गई तभी उसकी मम्मी अंदर आईं।
” बेटा बाहर जो लोग बैठे हुए हैं वो तुम्हारा हाथ मांगने आए हैं, लड़का विद्युत विभाग में अॉफीसर है .. परिवार भी अच्छा है .. मुझे और तुम्हारे पापा को तो लड़का पसंद है ..तुम और देख लो और अपनी हां या ना बता दो.. जल्दी फ्रेश और रेडी होकर आ जाओ ..” मम्मी ने स्नेह से सोना के बाल सहला कर कहा और नाश्ते के इंतजाम के लिए चली गईं।
कुछ देर बाद सोना ड्राइंग रुम में थी।
हल्का अॉरेंज कलर का सूट पहने सोनाली बहुत प्यारी लग रही थी । वैसे भी सुंदर तो बहुत है ही वो।उसकी मम्मी उसे देखे जा रही थीं कि कहीं लाड़ो को नजर न लग जाए मौका मिले तो कान पर काला टीका लगा दूं।
कुछ देर औपचारिक बातें होती रही ।
फिर बड़े लोगों ने कहा दोनों बच्चों को कुछ देर एकांत में बात कर लेने दी जाए । जिससे सहमति – असहमति पर सोच सकें ।
सोनाली और विपिन आमने सामने बैठे थे सोना के कमरे में।
सोना चुप थी।
विपिन ने ही शुरूआत की ” मैं विपिन , कुछ दिन पहले आपको एक शादी में देखा था .. बहुत पसंद आईं आप मुझे . . किसी तरह आपके बारे में पता करके मम्मी पापा को आपके घर लाया हूँ।
पर अगर आपको इस रिश्ते से इंकार हो तो बोल दीजिए। आप अपने डिसीजन के लिए स्वतंत्र हैं।
सोना सोच रही थी कि लड़का बुरा नहीं .. सभ्य भी है.. मां पापा को भी पसंद है .. हां कर दूं ।
सोना बोलने को हुई तभी अचानक माहौल में एक गीत लहरी गूंज उठी ..
” ये मोह-मोह के धागे”
विपिन का फोन बज रहा था उसी की रिंगटोन थी ।
सोनाली की आंखे सुखद आश्चर्य से फैल गईं।दिल में तितलियां उडने लगींं।
“वाह भगवान जी आप भी अच्छा सरप्राइज देते हो .. जिसे देखना चाहा वो खुद नज़रों के सामने है आज़…. हेलमेट उसी ने तो लगा रखा मैने तो नहीं.. तभी विपिन ने मुझे देखा।” खुश होकर सोनाली ने मन मन में कहा।
“तो क्या जबाब है आपका सोनाली ” विपिन ने कहा।
” जी मैं तैयार हूँ इस रिश्ते के लिए ” कहते हुए सोनाली का दिल बल्लियों उछल रहा था।
कुछ दिन बाद रिंग सेरेमनी में विपिन सोनाली की उंगली में सगाई की अंगूठी पहना रहा था और सोनाली के मन में वही गाना गूंज रहा था ….
” ये मोह मोह के धागे
तेरी उंगलियों से जा उलझे
कोई टोह टोह न लागे
किस तरह गिरह ये सुलझे”

अंकिता

Language: Hindi
Tag: लघु कथा
2 Likes · 2 Comments · 2043 Views
You may also like:
धर्म में पंडे, राजनीति में गुंडे जनता को भरमावें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
श्याम घनाक्षरी-2
सूर्यकांत द्विवेदी
तुम से मिलना था मिल नही पाये
Dr fauzia Naseem shad
श्री राम ने
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️सूफ़ियाना जिंदगी✍️
'अशांत' शेखर
दर्द के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
मां क्यों निष्ठुर?
Saraswati Bajpai
यतींम
shabina. Naaz
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
जन्मदिवस का महत्व...
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
गुरु है महान ( गुरु पूर्णिमा पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
सुकून
Harshvardhan "आवारा"
मेरे हर खूबसूरत सफर की मंज़िल हो तुम,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
बेटी का संदेश
Anamika Singh
तू पसन्द है मुझको
gurudeenverma198
कर्म -धर्म
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरे पापा जैसे कोई....... है न ख़ुदा
Nitu Sah
बुद्धिमान बनाम बुद्धिजीवी
Shivkumar Bilagrami
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
बड़े पाक होते हैं।
Taj Mohammad
राजनीति मे दलबदल
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*चार दिवस का मेला( गीत )*
Ravi Prakash
तमन्नाओं का संसार
DESH RAJ
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
"सुन नारी मैं माहवारी"
Dr Meenu Poonia
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
गीत//तुमने मिलना देखा, हमने मिलकर फिर खो जाना देखा।
Shiva Awasthi
कैसे बताऊं,मेरे कौन हो तुम
Ram Krishan Rastogi
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
Loading...