Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2022 · 1 min read

राह तक रहे हैं नयना

आंगन मेरा सूना तुम बिन
अश्रु भरे मेरे नयना
बंधन मुक्त हुआ फिर भी
राह तक रहे हैं नयना

घनघोर अंधेरे पथ पर
यादों के झुरमुट साये मे
फिर से लहरा दो आंचल
गूंजे पायल खनके कंगना
राह तक रहे हैं नयना

विभ्रम पैदा करती राहें
दिग्भ्रमित हो देखें सपना
दिखती हो तुम दूर कहीं
कैसे पहुंचे कुछ तो कहना
राह तक रहे हैं नयना

गहन तिमिर से क्या घबराना
उजला दिन तय सूर्य निकलना
आवाज सुनी उठ बैठ गया
जुड़ते सपने – टूटे बंधना
राह तक रहे हैं नयना

नयनसुरा का चषक निहाल
कंपित अधरों पे प्रणय केली
बाहें फैला लो आलिंगन
दूरी मिटे हो संग रहना
राह तक रहे हैं नयना

मन की रीत निभा लो
चम्पा कनेर खिला लो
तोड़ो बन्धन जग उपवन के
विरह अग्नि मे क्या जलना
राह तक रहे हैं नयना

स्वरचित
मौलिक
सर्वाधिकार सुरक्षित
अश्वनी कुमार जायसवाल कानपुर

प्रकाशित ‘अभ्युदय’

Language: Hindi
2 Likes · 4 Comments · 248 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शायरों के साथ ढल जाती ग़ज़ल।
शायरों के साथ ढल जाती ग़ज़ल।
सत्य कुमार प्रेमी
पंछी और पेड़
पंछी और पेड़
नन्दलाल सुथार "राही"
मैं जी रहा हूँ जिंदगी, ऐ वतन तेरे लिए
मैं जी रहा हूँ जिंदगी, ऐ वतन तेरे लिए
gurudeenverma198
~रेत की आत्मकथा ~
~रेत की आत्मकथा ~
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*यहाँ जो दिख रहा है वह, सभी श्रंगार दो दिन का (मुक्तक)*
*यहाँ जो दिख रहा है वह, सभी श्रंगार दो दिन का (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Mujhe laga tha ki meri talash tum tak khatam ho jayegi
Mujhe laga tha ki meri talash tum tak khatam ho jayegi
Sakshi Tripathi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
Radhakishan R. Mundhra
अगर मेरे अस्तित्व को कविता का नाम दूँ,  तो इस कविता के भावार
अगर मेरे अस्तित्व को कविता का नाम दूँ, तो इस कविता के भावार
Sukoon
हमको जो समझें
हमको जो समझें
Dr fauzia Naseem shad
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Manisha Manjari
अंबेडकर के नाम से चिढ़ क्यों?
अंबेडकर के नाम से चिढ़ क्यों?
Shekhar Chandra Mitra
सच अति महत्वपूर्ण यह,
सच अति महत्वपूर्ण यह,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
Someone Special
Someone Special
Ram Babu Mandal
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
दिनांक - २१/५/२०२३
दिनांक - २१/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मे कोई समस्या नहीं जिसका
मे कोई समस्या नहीं जिसका
Ranjeet kumar patre
2621.पूर्णिका
2621.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"टिकमार्क"
Dr. Kishan tandon kranti
विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
शेखर सिंह
■ दिल
■ दिल "पिपरमेंट" सा कोल्ड है भाई साहब! अभी तक...।😊
*Author प्रणय प्रभात*
मेरा चाँद न आया...
मेरा चाँद न आया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
My Lord
My Lord
Kanchan Khanna
आप हो
आप हो
Dr.Pratibha Prakash
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
** अब मिटाओ दूरियां **
** अब मिटाओ दूरियां **
surenderpal vaidya
जहर    ना   इतना  घोलिए
जहर ना इतना घोलिए
Paras Nath Jha
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
Neelam Sharma
ज़िंदगी का खेल है, सोचना समझना
ज़िंदगी का खेल है, सोचना समझना
पूर्वार्थ
Loading...