Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2024 · 1 min read

* राह चुनने का समय *

** नवगीत **
~~~~~~~~~~
अब नहीँ चुपचाप बैठो,
राह चुनने का समय है।
~~
आज सत्ता के खिलाड़ी,
वोट के याचक बने हैं।
स्याह दिल भीतर छिपाये,
भगत बगुले से बने है।

सोच लें सब देशवासी,
वोट देने का समय है।

तुम रहे निष्क्रिय तभी तो,
लुट रहे हो पिट रहे हो।
राजनीति के क्षरण का,
तुम भी कारण बन रहे हो।

देशहित की राजनीति,
को बनाने का समय है।

आज अपना वोट देकर,
एक परिवर्तन करें हम।
शक्तिशाली देश को फिर,
जागरुक सरकार देँ हम।

मन में कुछ करने की ठानों।
दिन संवरने का समय है।
~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य।

42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
प्रेम पर्याप्त है प्यार अधूरा
प्रेम पर्याप्त है प्यार अधूरा
Amit Pandey
*वधू (बाल कविता)*
*वधू (बाल कविता)*
Ravi Prakash
भले उधार सही
भले उधार सही
Satish Srijan
वक्त और हालात जब साथ नहीं देते हैं।
वक्त और हालात जब साथ नहीं देते हैं।
Manoj Mahato
हरि का घर मेरा घर है
हरि का घर मेरा घर है
Vandna thakur
परेड में पीछे मुड़ बोलते ही,
परेड में पीछे मुड़ बोलते ही,
नेताम आर सी
"अवसरवाद" की
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी एक सफ़र अपनी
जिंदगी एक सफ़र अपनी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*खुश रहना है तो जिंदगी के फैसले अपनी परिस्थिति को देखकर खुद
*खुश रहना है तो जिंदगी के फैसले अपनी परिस्थिति को देखकर खुद
Shashi kala vyas
सगीर गजल
सगीर गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
व्यस्तता
व्यस्तता
Surya Barman
ग्रंथ
ग्रंथ
Tarkeshwari 'sudhi'
2674.*पूर्णिका*
2674.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*बल गीत (वादल )*
*बल गीत (वादल )*
Rituraj shivem verma
दर्द का दरिया
दर्द का दरिया
Bodhisatva kastooriya
पत्थर का सफ़ीना भी, तैरता रहेगा अगर,
पत्थर का सफ़ीना भी, तैरता रहेगा अगर,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मेरे वतन मेरे चमन तुझपे हम कुर्बान है
मेरे वतन मेरे चमन तुझपे हम कुर्बान है
gurudeenverma198
ओढ़े जुबां झूठे लफ्जों की।
ओढ़े जुबां झूठे लफ्जों की।
Rj Anand Prajapati
"तुम्हारी हंसी" (Your Smile)
Sidhartha Mishra
अच्छे बच्चे
अच्छे बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुन लो बच्चों
सुन लो बच्चों
लक्ष्मी सिंह
हुलिये के तारीफ़ात से क्या फ़ायदा ?
हुलिये के तारीफ़ात से क्या फ़ायदा ?
ओसमणी साहू 'ओश'
Sometimes…
Sometimes…
पूर्वार्थ
अधूरी हसरत
अधूरी हसरत
umesh mehra
नित  हर्ष  रहे   उत्कर्ष  रहे,   कर  कंचनमय  थाल  रहे ।
नित हर्ष रहे उत्कर्ष रहे, कर कंचनमय थाल रहे ।
Ashok deep
बदलती दुनिया
बदलती दुनिया
साहित्य गौरव
तुम्हारा एक दिन..…........एक सोच
तुम्हारा एक दिन..…........एक सोच
Neeraj Agarwal
💐प्रेम कौतुक-369💐
💐प्रेम कौतुक-369💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिलों में है शिकायत तो, शिकायत को कहो तौबा,
दिलों में है शिकायत तो, शिकायत को कहो तौबा,
Vishal babu (vishu)
अनकहे शब्द बहुत कुछ कह कर जाते हैं।
अनकहे शब्द बहुत कुछ कह कर जाते हैं।
Manisha Manjari
Loading...