Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2017 · 1 min read

राहें

खुद ब खुद
बदल गयी हैं राहें
मंजिल का पता
बता रही हैं राहें
जाना था किधर
कहां जा रही हैं राहें
मुश्किल थी बहुत
आसान हो गयी हैं राहें
देखे न थे जो ख्वाब
हकीकत बना रही हैं राहें
किसी के पास किसी से दूर
ले जा रही हैं राहें
मुस्करा रहा है तन मन
महक रही हैं राहें
मिलेगा मुकद्दर यहीं पर
वादा निभा रही हैं राहें ।।

राज विग

Language: Hindi
450 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ना अश्रु कोई गिर पाता है
ना अश्रु कोई गिर पाता है
Shweta Soni
मांँ
मांँ
Neelam Sharma
सुख - डगर
सुख - डगर
Sandeep Pande
बिछड़ा हो खुद से
बिछड़ा हो खुद से
Dr fauzia Naseem shad
मिलेट/मोटा अनाज
मिलेट/मोटा अनाज
लक्ष्मी सिंह
कब तक चाहोगे?
कब तक चाहोगे?
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
पापा की तो बस यही परिभाषा हैं
पापा की तो बस यही परिभाषा हैं
Dr Manju Saini
देव-कृपा / कहानीकार : Buddhsharan Hans
देव-कृपा / कहानीकार : Buddhsharan Hans
Dr MusafiR BaithA
आखिर उन पुरुष का,दर्द कौन समझेगा
आखिर उन पुरुष का,दर्द कौन समझेगा
पूर्वार्थ
उठ जाग मेरे मानस
उठ जाग मेरे मानस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
अजहर अली (An Explorer of Life)
"बहुत है"
Dr. Kishan tandon kranti
Nothing is easier in life than
Nothing is easier in life than "easy words"
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पागल।। गीत
पागल।। गीत
Shiva Awasthi
18)”योद्धा”
18)”योद्धा”
Sapna Arora
3126.*पूर्णिका*
3126.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कोई भी नही भूख का मज़हब यहाँ होता है
कोई भी नही भूख का मज़हब यहाँ होता है
Mahendra Narayan
शमशान घाट
शमशान घाट
Satish Srijan
RATHOD SRAVAN WAS GREAT HONORED
RATHOD SRAVAN WAS GREAT HONORED
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
Neerja Sharma
जूते व जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
जूते व जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
प्रभु का प्राकट्य
प्रभु का प्राकट्य
Anamika Tiwari 'annpurna '
जख्म हरे सब हो गए,
जख्म हरे सब हो गए,
sushil sarna
"अपने की पहचान "
Yogendra Chaturwedi
■ कला का केंद्र गला...
■ कला का केंद्र गला...
*Author प्रणय प्रभात*
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
Subhash Singhai
*
*"हलषष्ठी मैया'*
Shashi kala vyas
करना केवल यह रहा , बाँटो खूब शराब(हास्य कुंडलिया)
करना केवल यह रहा , बाँटो खूब शराब(हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
नववर्ष
नववर्ष
Mukesh Kumar Sonkar
नौका को सिन्धु में उतारो
नौका को सिन्धु में उतारो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...