Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jan 2024 · 1 min read

राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था

राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
(१२जनवरी युवा दिवस)

जिनके एक आव्हान पर,जागा हिंदुस्तान था
राष्ट्र निर्माण भारत का गौरव,जिनका एक आव्हान था
देश और दुनिया में, विवेकानंद महान था
धर्म और आध्यात्म की ताकत, युवाओं को समझाई थी
पाश्चात्य अनुशरण पर, उन्होंने फटकार लगाई थी
भारतीय संस्कृति को पोषित कर, परतंत्रता से लड़ी लड़ाई थी
भारतीय समाज की ताकत धर्म है,सारी दुनिया को समझाया
सारी दुनिया में उन्होंने, भारतीय संस्कृति दर्शन को बतलाया
जागृत भारत के वक्ता ने, सांस्कृतिक चेतना सृजन की
सुदीर्घ रजनी समाप्त होने की,महा दुख के अंत घोषणा की
देखें निद्रा से जाग रहा भारत,उषा की नई किरण आएगी
अगले पचास साल में, भारत माता स्वतंत्रत हो जाएगी
उनके वैचारिक क्रांति मार्ग से,जागा सारा भारत था
गौरव और स्वाभिमान जगा,नव जागरण का आवाहन था
समझाया नारीशिक्षा को, नैतिक बल का सम्मोहन था
अंधकार गरीबी से लड़ने, दरिद्र को-नारायण बताया था
स्वामी जी की शिक्षाएं,आज बहुत प्रसांगिक हैं
नवभारत के निर्माण में, उनकी बहुत ज़रूरत है

1 Like · 124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
अब तो आई शरण तिहारी
अब तो आई शरण तिहारी
Dr. Upasana Pandey
A GIRL IN MY LIFE
A GIRL IN MY LIFE
SURYA PRAKASH SHARMA
अभी कुछ बरस बीते
अभी कुछ बरस बीते
shabina. Naaz
पंचतत्व
पंचतत्व
लक्ष्मी सिंह
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
जो चीजे शांत होती हैं
जो चीजे शांत होती हैं
ruby kumari
आया तीजो का त्यौहार
आया तीजो का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
राम-राज्य
राम-राज्य
Bodhisatva kastooriya
वक्त से वकालत तक
वक्त से वकालत तक
Vishal babu (vishu)
व्हाट्सएप युग का प्रेम
व्हाट्सएप युग का प्रेम
Shaily
बचपन मिलता दुबारा🙏
बचपन मिलता दुबारा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
कार्तिक नितिन शर्मा
🥗फीका 💦 त्योहार 💥 (नाट्य रूपांतरण)
🥗फीका 💦 त्योहार 💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
विधाता का लेख
विधाता का लेख
rubichetanshukla 781
कैसे भूले हिंदुस्तान ?
कैसे भूले हिंदुस्तान ?
Mukta Rashmi
कुलदीप बनो तुम
कुलदीप बनो तुम
Anamika Tiwari 'annpurna '
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
गाती हैं सब इंद्रियॉं, आता जब मधुमास(कुंडलिया)
गाती हैं सब इंद्रियॉं, आता जब मधुमास(कुंडलिया)
Ravi Prakash
हज़ारों साल
हज़ारों साल
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
Devesh Bharadwaj
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रे मन
रे मन
Dr. Meenakshi Sharma
दिल का रोग
दिल का रोग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*यह  ज़िंदगी  नही सरल है*
*यह ज़िंदगी नही सरल है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जीवन का हर पल बेहतर होता है।
जीवन का हर पल बेहतर होता है।
Yogendra Chaturwedi
3096.*पूर्णिका*
3096.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
Ranjeet kumar patre
"मौजूदा दौर" में
*Author प्रणय प्रभात*
कितना ज्ञान भरा हो अंदर
कितना ज्ञान भरा हो अंदर
Vindhya Prakash Mishra
रै तमसा, तू कब बदलेगी…
रै तमसा, तू कब बदलेगी…
Anand Kumar
Loading...