Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 1 min read

बापू गाँधी

राष्ट्रपिता वो कहलाते
बच्चे उनको बापू बुलाते
सत्य,अहिंसा का पाठ पढ़ाया
यूँ देश को आज़ाद कराया।

जीते थे सदा जीवन सादा
देश से किया था इक वादा
था तनमन जीवन लगाया
देश को ‘स्वातंत्र्य’ दिलाया।

फिरंगियों से लड़ी लड़ाई
आज़ादी की कीमत चुकाई
प्रतिदिन थे चरखा चलाते
करते थे वस्त्रों की बुनाई।

तन पर न कभी कोई कोट था
सदैव ही पहनते थे धोती
अस्त्र उनके केवल ये ही
सत्य,अहिंसा मीठी सी बोली।

मखमल ना कोई रेशम था
वस्त्र थे केवल उनके खादी
बस इक लाठी के दम पे ही
शत्रुओं को थी धूल चटाई।

घबराकर यूँ भागे फ़िरंगी
भारत ने आज़ादी पाई
आया पावन दिन ये कितना
बापू को जन्मदिन की बधाई।

✍️”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कहानी घर-घर की
कहानी घर-घर की
Brijpal Singh
हरियाली के बीच में , माँ का पकड़े हाथ ।
हरियाली के बीच में , माँ का पकड़े हाथ ।
Mahendra Narayan
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
इतनी धूल और सीमेंट है शहरों की हवाओं में आजकल
इतनी धूल और सीमेंट है शहरों की हवाओं में आजकल
शेखर सिंह
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
सुन लेते तुम मेरी सदाएं हम भी रो लेते
सुन लेते तुम मेरी सदाएं हम भी रो लेते
Rashmi Ranjan
उर्दू वर्किंग जर्नलिस्ट का पहला राष्ट्रिय सम्मेलन हुआ आयोजित।
उर्दू वर्किंग जर्नलिस्ट का पहला राष्ट्रिय सम्मेलन हुआ आयोजित।
Shakil Alam
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ओ परबत  के मूल निवासी
ओ परबत के मूल निवासी
AJAY AMITABH SUMAN
आपको याद भी
आपको याद भी
Dr fauzia Naseem shad
*बेफिक्री का दौर वह ,कहाँ पिता के बाद (कुंडलिया)*
*बेफिक्री का दौर वह ,कहाँ पिता के बाद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दोय चिड़कली
दोय चिड़कली
Rajdeep Singh Inda
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
Rj Anand Prajapati
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
कवि दीपक बवेजा
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
कवि रमेशराज
नाराज नहीं हूँ मैं   बेसाज नहीं हूँ मैं
नाराज नहीं हूँ मैं बेसाज नहीं हूँ मैं
Priya princess panwar
2825. *पूर्णिका*
2825. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दर्द -दर्द चिल्लाने से सूकून नहीं मिलेगा तुझे,
दर्द -दर्द चिल्लाने से सूकून नहीं मिलेगा तुझे,
Pramila sultan
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नवरात्रि - गीत
नवरात्रि - गीत
Neeraj Agarwal
जय माता दी ।
जय माता दी ।
Anil Mishra Prahari
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तुमसे मैं एक बात कहूँ
तुमसे मैं एक बात कहूँ
gurudeenverma198
तुम्हारी हँसी......!
तुम्हारी हँसी......!
Awadhesh Kumar Singh
"पलायन"
Dr. Kishan tandon kranti
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा तृतीय अध्याय।।
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा तृतीय अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
घर आ जाओ अब महारानी (उपालंभ गीत)
घर आ जाओ अब महारानी (उपालंभ गीत)
दुष्यन्त 'बाबा'
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
Ravi Ghayal
National YOUTH Day
National YOUTH Day
Tushar Jagawat
Loading...