Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
May 6, 2022 · 1 min read

रावण – विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)

विभीषण राम का भक्त था,
यह बात रावण भी जान रहा था।
फिर क्यों रावण, विभीषण को ,
राम से मिलने दिया था।

मार सकता था वह विभीषण को,
फिर भी क्यों नहीं मारा था।
इसके पीछे भी रावण का,
एक छुपा हुआ कारण था ।

रावण बोला विभीषण से
सुन मेरे प्यारे भाई,
तुमने अपने जीवन में आजतक ,
कोई पाप नहीं किया है।
इसलिए तुमको तो ऐसे ही
मिल जाएगा, स्वर्ग-धाम

पर मैं अपना यह पाप भरा
शरीर लेकर ,
कैसे जाऊँ स्वर्ग-धाम।
तुम मेरे छोटे भाई हो।
तुम्हें ही करना होगा,
अब इसका इंतजाम।

काम बहुत बड़ा है,
पर तुम ही कर सकते हो।
मेरे मरने का भेद राम को,
तुम ही जाकर बता सकते हो।

विभीषण बोला भईया रावण,
मैं यह कैसे कर सकता हूँ।
तेरा भाई होकर मैं तेरे साथ,
विश्वासघात कैसे कर सकता हूँ!
कैसे मैं तुम्हें मरवा सकता हूँ!

रावण बोला सुन मेरे प्यारे
तुम मुझे मरवा नहीं रहा है।
मैंने जो पाप किया है,
तुम उससे मुझे मुक्ति दिला रहा है।

तुम जाओ राम के शरण में,
वहाँ जाकर मेरे सारे भेद खोलो,
तुम मेरे मरने का सारे भेद खोलोगे,
तभी जाकर मैं मर पाऊँगा।

राम से मुक्ति लेकर तभी,
मैं स्वर्ग-धाम को जा पाऊँगा।
और जो मैंने पाप किये है,
उससे मैं मुक्ति ले पाऊँगा।

कुछ लोग कहेंगे तुमको भेदी,
सुन लेना तुम मेरे भाई प्रिये।
पर राम के हाथों मुक्ति दिलाकर,
तुम मुझ पर करोगे एहसान,
मेरे भाई प्रिये।

~ अनामिका

3 Likes · 2 Comments · 142 Views
You may also like:
ज़िंदगी।
Taj Mohammad
एक बात... पापा, करप्शन.. लेना
Nitu Sah
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐प्रेम की राह पर-32💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
छोड़ दिए संस्कार पिता के, कुर्सी के पीछे दौड़ रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
युवकों का निर्माण चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आज तिलिस्म टूट गया....
Saraswati Bajpai
मेरी लेखनी
Anamika Singh
“माटी ” तेरे रूप अनेक
DESH RAJ
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
डगर कठिन हो बेशक मैं तो कदम कदम मुस्काता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
एक नज़म [ बेकायदा ]
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धन्य है पिता
Anil Kumar
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
माँ क्या लिखूँ।
Anamika Singh
मंजूषा बरवै छंदों की
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
*श्री राजेंद्र कुमार शर्मा का निधन : एक युग का...
Ravi Prakash
डरिये, मगर किनसे....?
मनोज कर्ण
मैं तेरा बन जाऊं जिन्दगी।
Taj Mohammad
✍️मैंने पूछा कलम से✍️
"अशांत" शेखर
महापंडित ठाकुर टीकाराम
श्रीहर्ष आचार्य
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
* साम वेदना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️मौत का जश्न✍️
"अशांत" शेखर
✍️बगावत थी उसकी✍️
"अशांत" शेखर
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
इतना शौक मत रखो इन इश्क़ की गलियों से
Krishan Singh
क्या कहते हो हमसे।
Taj Mohammad
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H. Amin
Loading...