Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2022 · 1 min read

रावण – विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)

विभीषण राम का भक्त था,
यह बात रावण भी जान रहा था।
फिर क्यों रावण, विभीषण को ,
राम से मिलने दिया था।

मार सकता था वह विभीषण को,
फिर भी क्यों नहीं मारा था।
इसके पीछे भी रावण का,
एक छुपा हुआ कारण था ।

रावण बोला विभीषण से
सुन मेरे प्यारे भाई,
तुमने अपने जीवन में आजतक ,
कोई पाप नहीं किया है।
इसलिए तुमको तो ऐसे ही
मिल जाएगा, स्वर्ग-धाम

पर मैं अपना यह पाप भरा
शरीर लेकर ,
कैसे जाऊँ स्वर्ग-धाम।
तुम मेरे छोटे भाई हो।
तुम्हें ही करना होगा,
अब इसका इंतजाम।

काम बहुत बड़ा है,
पर तुम ही कर सकते हो।
मेरे मरने का भेद राम को,
तुम ही जाकर बता सकते हो।

विभीषण बोला भईया रावण,
मैं यह कैसे कर सकता हूँ।
तेरा भाई होकर मैं तेरे साथ,
विश्वासघात कैसे कर सकता हूँ!
कैसे मैं तुम्हें मरवा सकता हूँ!

रावण बोला सुन मेरे प्यारे
तुम मुझे मरवा नहीं रहा है।
मैंने जो पाप किया है,
तुम उससे मुझे मुक्ति दिला रहा है।

तुम जाओ राम के शरण में,
वहाँ जाकर मेरे सारे भेद खोलो,
तुम मेरे मरने का सारे भेद खोलोगे,
तभी जाकर मैं मर पाऊँगा।

राम से मुक्ति लेकर तभी,
मैं स्वर्ग-धाम को जा पाऊँगा।
और जो मैंने पाप किये है,
उससे मैं मुक्ति ले पाऊँगा।

कुछ लोग कहेंगे तुमको भेदी,
सुन लेना तुम मेरे भाई प्रिये।
पर राम के हाथों मुक्ति दिलाकर,
तुम मुझ पर करोगे एहसान प्रिय।
ओ मेरे भाई प्रिये।

~ अनामिका

Language: Hindi
Tag: कविता
6 Likes · 4 Comments · 541 Views
You may also like:
तुम चाहो तो सारा जहाँ मांग लो.....
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
The Bridge
Buddha Prakash
बेदर्द -------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
“ पागल -प्रेमी ”
DrLakshman Jha Parimal
हम जलील हो गए।
Taj Mohammad
सुभाष चंद्र बोस
Anamika Singh
अविरल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे गाँव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर [प्रथम...
AJAY AMITABH SUMAN
बरसात
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कृष्ण जन्म
लक्ष्मी सिंह
इमोजी है तो सही यार...!
प्रणय प्रभात
आधा इंसान
GOVIND UIKEY
हर गुनाह शाद
Dr fauzia Naseem shad
जीवन मे एक दिन
N.ksahu0007@writer
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
I hope one day the clouds been gone and the...
Manisha Manjari
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
Abhishek Pandey Abhi
*उर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
याद आते हैं
Dr. Sunita Singh
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
'सनातन ज्ञान'
Godambari Negi
बॉर्डर पर किसान
Shriyansh Gupta
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
पापा
Kanchan Khanna
🌺🍀परिश्रम: प्रकृत्या सम्बन्धेन भवति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
!! नारियों की शक्ति !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
देवदासी प्रथा का अंत
Shekhar Chandra Mitra
गुरु पूर्णिमा
Vikas Sharma'Shivaaya'
अश्रुपात्र ... A glass of tears भाग - 5
Dr. Meenakshi Sharma
Loading...