Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2022 · 1 min read

रावण – विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)

विभीषण राम का भक्त था,
यह बात रावण भी जान रहा था।
फिर क्यों रावण, विभीषण को ,
राम से मिलने दिया था।

मार सकता था वह विभीषण को,
फिर भी क्यों नहीं मारा था।
इसके पीछे भी रावण का,
एक छुपा हुआ कारण था ।

रावण बोला विभीषण से
सुन मेरे प्यारे भाई,
तुमने अपने जीवन में आजतक ,
कोई पाप नहीं किया है।
इसलिए तुमको तो ऐसे ही
मिल जाएगा, स्वर्ग-धाम

पर मैं अपना यह पाप भरा
शरीर लेकर ,
कैसे जाऊँ स्वर्ग-धाम।
तुम मेरे छोटे भाई हो।
तुम्हें ही करना होगा,
अब इसका इंतजाम।

काम बहुत बड़ा है,
पर तुम ही कर सकते हो।
मेरे मरने का भेद राम को,
तुम ही जाकर बता सकते हो।

विभीषण बोला भईया रावण,
मैं यह कैसे कर सकता हूँ।
तेरा भाई होकर मैं तेरे साथ,
विश्वासघात कैसे कर सकता हूँ!
कैसे मैं तुम्हें मरवा सकता हूँ!

रावण बोला सुन मेरे प्यारे
तुम मुझे मरवा नहीं रहा है।
मैंने जो पाप किया है,
तुम उससे मुझे मुक्ति दिला रहा है।

तुम जाओ राम के शरण में,
वहाँ जाकर मेरे सारे भेद खोलो,
तुम मेरे मरने का सारे भेद खोलोगे,
तभी जाकर मैं मर पाऊँगा।

राम से मुक्ति लेकर तभी,
मैं स्वर्ग-धाम को जा पाऊँगा।
और जो मैंने पाप किये है,
उससे मैं मुक्ति ले पाऊँगा।

कुछ लोग कहेंगे तुमको भेदी,
सुन लेना तुम मेरे भाई प्रिये।
पर राम के हाथों मुक्ति दिलाकर,
तुम मुझ पर करोगे एहसान प्रिय।
ओ मेरे भाई प्रिये।

~ अनामिका

Language: Hindi
6 Likes · 6 Comments · 1504 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खोल नैन द्वार माँ।
खोल नैन द्वार माँ।
लक्ष्मी सिंह
सत्य तत्व है जीवन का खोज
सत्य तत्व है जीवन का खोज
Buddha Prakash
कहाँ जाऊँ....?
कहाँ जाऊँ....?
Kanchan Khanna
दुनिया मे नाम कमाने के लिए
दुनिया मे नाम कमाने के लिए
शेखर सिंह
शेरनी का डर
शेरनी का डर
Kumud Srivastava
माँ
माँ
meena singh
Subah ki hva suru hui,
Subah ki hva suru hui,
Stuti tiwari
राजकुमारी
राजकुमारी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
स्वांग कुली का
स्वांग कुली का
Er. Sanjay Shrivastava
#हिंदी_ग़ज़ल
#हिंदी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
जबकि ख़ाली हाथ जाना है सभी को एक दिन,
जबकि ख़ाली हाथ जाना है सभी को एक दिन,
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
मोर
मोर
Manu Vashistha
उन वीर सपूतों को
उन वीर सपूतों को
gurudeenverma198
कौन ?
कौन ?
साहिल
प्रार्थना (मधुमालती छन्द)
प्रार्थना (मधुमालती छन्द)
नाथ सोनांचली
बारिश के लिए तरस रहे
बारिश के लिए तरस रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सिर्फ तेरे चरणों में सर झुकाते हैं मुरलीधर,
सिर्फ तेरे चरणों में सर झुकाते हैं मुरलीधर,
कार्तिक नितिन शर्मा
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेघों का इंतजार है
मेघों का इंतजार है
VINOD CHAUHAN
गरम समोसा खा रहा , पूरा हिंदुस्तान(कुंडलिया)
गरम समोसा खा रहा , पूरा हिंदुस्तान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
समूह
समूह
Neeraj Agarwal
जरा विचार कीजिए
जरा विचार कीजिए
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
पूर्वार्थ
कुछ
कुछ
Shweta Soni
शायरी
शायरी
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
खाने पुराने
खाने पुराने
Sanjay ' शून्य'
मकसद ......!
मकसद ......!
Sangeeta Beniwal
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी
Dr MusafiR BaithA
दर्द
दर्द
Dr. Seema Varma
देह से विलग भी
देह से विलग भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...