Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Oct 2023 · 1 min read

रावण की गर्जना व संदेश

अबकी बार रावण दशहरे पर आया,
राम पर गरजा और ऐसे चिल्लाया।
पहले अपने देश को ठीक कर आओ,
फिर मुझ पर आकर बाण चलाओ।।

कुम्भकर्ण को यूही बदनाम करते हो,
छ:महीने सोने का आरोप लगाते हो।
तुम्हारे नेता तो पांच साल सोते है,
जब चुनाव होते तो जाग कर आते है।।
अपने इन नेताओ को तो जगाओ,
फिर मुझ पर आकर बाण चलाओ।।

मैंने कभी भी अपना रूप छिपाया है,
जैसा था, वही उसी रूप में आया हूं।
तुम्हारे देश में संत बने है दुराचारी,
योंन शोषण करते है ये अत्याचारी।
पहले इन संतो को रास्ते पर लाओ,
फिर मुझ पर आकर बाण चलाओ।।

तुम्हारे देश में केकयी के कारण,
दशरथ को ही मरना पड़ता है।
कम दहेज लाने के ही कारण,
कौशल्या को आत्म दाह करना पड़ता है।
पहले इन दहेज भक्षी को मार कर आओ,
फिर मुझ पर आकर बाण चलाओ।।

तुम्हारे देश में विभीषण के कारण,
अन्धो को रेवाड़ी बाटी जा रही है।
देश में मोर्डेन सूफनखा की जगह,
सीता की नाक काटी जा रही है।
पहले देश की नारी को बचाओ,
फिर मुझ पर आकर बाण चलाओ।।

तुम्हारे देश में मी टू का शोर मचा है,
उसमे एक्टर डायरेक्टर नेता फसा है।
ये नारियो के साथ करते छेड़ा छाडी,
रेप हत्या में रहे ये सबसे अगाडी।
पहले इन सब को बंद कर कर आओ,
फिर मुझ पर आकर बाण चलाओ।।

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम

Language: Hindi
2 Likes · 4 Comments · 225 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
SPK Sachin Lodhi
घे वेध भविष्याचा ,
घे वेध भविष्याचा ,
Mr.Aksharjeet
ये छुटपुट कोहरा छिपा नही सकता आफ़ताब को
ये छुटपुट कोहरा छिपा नही सकता आफ़ताब को
'अशांत' शेखर
मेरे हमसफ़र
मेरे हमसफ़र
Shyam Sundar Subramanian
वो जो हूबहू मेरा अक्स है
वो जो हूबहू मेरा अक्स है
Shweta Soni
"प्यासा"-हुनर
Vijay kumar Pandey
प्यार के सरोवर मे पतवार होगया।
प्यार के सरोवर मे पतवार होगया।
Anil chobisa
हम वो हिंदुस्तानी है,
हम वो हिंदुस्तानी है,
भवेश
अंधा इश्क
अंधा इश्क
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आओ बुद्ध की ओर चलें
आओ बुद्ध की ओर चलें
Shekhar Chandra Mitra
शब्द
शब्द
लक्ष्मी सिंह
बालकों के जीवन में पुस्तकों का महत्व
बालकों के जीवन में पुस्तकों का महत्व
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गुरु कृपा
गुरु कृपा
Satish Srijan
वो इशक तेरा ,जैसे धीमी धीमी फुहार।
वो इशक तेरा ,जैसे धीमी धीमी फुहार।
Surinder blackpen
■ आज़ाद भारत के दूसरे पटेल।
■ आज़ाद भारत के दूसरे पटेल।
*Author प्रणय प्रभात*
आह
आह
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*बात सही है खाली हाथों, दुनिया से सब जाऍंगे (हिंदी गजल)*
*बात सही है खाली हाथों, दुनिया से सब जाऍंगे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
अबस ही डर रहा था अब तलक मैं
अबस ही डर रहा था अब तलक मैं
Neeraj Naveed
2493.पूर्णिका
2493.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मौसम बेईमान है – प्रेम रस
मौसम बेईमान है – प्रेम रस
Amit Pathak
किस्मत की लकीरें
किस्मत की लकीरें
Dr Parveen Thakur
चुलबुली मौसम
चुलबुली मौसम
Anil "Aadarsh"
"अपेक्षा"
Dr. Kishan tandon kranti
साथ अगर उनका होता
साथ अगर उनका होता
gurudeenverma198
पिता का पता
पिता का पता
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
💐प्रेम कौतुक-550💐
💐प्रेम कौतुक-550💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
sushil sarna
ज्ञान तो बहुत लिखा है किताबों में
ज्ञान तो बहुत लिखा है किताबों में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक हैसियत
एक हैसियत
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...