Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2022 · 2 min read

रावण का मकसद, मेरी कल्पना

रावण था लंका का राजा ।
वह था बड़ा शक्तिशाली।
बुद्धि बल का अदभुत मिश्रण।
वह बड़ा था हटशालीl

जप-तप में उसकी तुलना में
इस संसार में कोई नहीं था।
वह शिव शंकर का सबसे
बड़ा परम भक्त कहलाता था।

शिव शंकर को खुश करके
वह दशासन का वर माँगा था।
पर स्वर्ग धाम को कैसे जाए,
उसके मन में एक पश्न था !

उसको पता था की उसका
जीवन पापों से भरा पड़ा है ।
और उसकी प्रजा ने भी
उसके लिए पाप बहुत किया है ।

वह था बड़ा ही बुद्धिशाली।
उसने सोच-समझ एक युक्ति निकाली।
जाके सीता को वन से हर ,
लंका मैं है रख डाला ।

उसका मकसद सीता का
अपमान करना नहीं था।
उसका मकसद तो प्रजा सहित,
स्वर्ग-धाम को जाना था।

वह जान रहा था की सीता ही
उसके स्वर्ग जाने का है मार्ग ।
इसलिए वह कर रहा था
इस तरह का कार्य।

सब लोग एक- एक कर
रावण को समझा रहे थे।
क्या हश्र होने वाला है,
यह सब मिलकर बता रहे थे।

पर रावण जान बुझकर
अनजान बना हुआ था ।
उसका मकसद कितना बड़ा है,
कहाँ बता रहा था!

वह मंद मंद उन सबकी
बातों पर मुस्कुरा रहा था,
और वह मन ही मन स्वर्ग-
धाम जाने की तैयारी कर रहा था।

राम से मुक्ति लेने के लिए ही
तो सीता को लंका लाया था ,
और सीता के जरिये उसने
राम को युद्ध के लिए ललकारा था।

उसका मकसद युद्ध को
जीतना था ही नहीं कभी भी,
वह युद्ध जीत नही सकता है राम से,
वह यह सब जान रहा था ।

उसका मकसद राम के हाथों
अपना वध करवाना था।
उनके हाथों मुक्ति लेकर
स्वर्ग – धाम को जाना था।

यह रावण के सर्वोत्तम बुद्धि
का परिणाम ही था ।
इतने पाप के बाद भी रावण
प्रजा सहित पहुंचा सीधे स्वर्ग-धाम को था।

~अनामिका

Language: Hindi
4 Likes · 4 Comments · 654 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंत ना अनंत हैं
अंत ना अनंत हैं
TARAN VERMA
करम
करम
Fuzail Sardhanvi
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
सत्य कुमार प्रेमी
हालातों से युद्ध हो हुआ।
हालातों से युद्ध हो हुआ।
Kuldeep mishra (KD)
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
Chunnu Lal Gupta
परीक्षा
परीक्षा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
पिताश्री
पिताश्री
Bodhisatva kastooriya
जमाना इस कदर खफा  है हमसे,
जमाना इस कदर खफा है हमसे,
Yogendra Chaturwedi
"अकेलापन और यादें "
Pushpraj Anant
मैं अलग हूँ
मैं अलग हूँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
सियासत में आकर।
सियासत में आकर।
Taj Mohammad
जीवन की सबसे बड़ी त्रासदी
जीवन की सबसे बड़ी त्रासदी
ruby kumari
मजे की बात है ....
मजे की बात है ....
Rohit yadav
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
Suryakant Dwivedi
शीर्षक - 'शिक्षा : गुणात्मक सुधार और पुनर्मूल्यांकन की महत्ती आवश्यकता'
शीर्षक - 'शिक्षा : गुणात्मक सुधार और पुनर्मूल्यांकन की महत्ती आवश्यकता'
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
बहना तू सबला बन 🙏🙏
बहना तू सबला बन 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुट्ठी भर आस
मुट्ठी भर आस
Kavita Chouhan
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
गुरु दीक्षा
गुरु दीक्षा
GOVIND UIKEY
*यहाँ जो दिख रहा है वह, सभी श्रंगार दो दिन का (मुक्तक)*
*यहाँ जो दिख रहा है वह, सभी श्रंगार दो दिन का (मुक्तक)*
Ravi Prakash
बड़ा ही अजीब है
बड़ा ही अजीब है
Atul "Krishn"
2326.पूर्णिका
2326.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बिन बोले सब कुछ बोलती हैं आँखें,
बिन बोले सब कुछ बोलती हैं आँखें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पाठ कविता रुबाई kaweeshwar
पाठ कविता रुबाई kaweeshwar
jayanth kaweeshwar
माना मन डरपोक है,
माना मन डरपोक है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
Phool gufran
गर्मी की मार
गर्मी की मार
Dr.Pratibha Prakash
ज़िंदगी जीना
ज़िंदगी जीना
Dr fauzia Naseem shad
Loading...