Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Oct 2022 · 1 min read

रावण का तुम अंश मिटा दो,

ढलता_ जाए_चंदा-सूरज , साथ तुम्हे ढल जाना है
रावण का तुम अंश मिटा दो,राम तुम्हे बन जाना है
अंगद_सा_ तुम बं_ बांकुरा , रण_ में पैर जमाना है
हनुमत सा बन संकट मोचन, पवनपुत्र कहलाना है

तेरा मेरा ना कर पगले , साथ नहीं कुछ जाना है
आकर जग बने भिखारी , दोनों हाथ कमाना है
कांटों को तुम फूल बनालो, खुशियां भागी आना है
प्रेम का प्याला पी ले “कृष्णा”, साथ बही रह जाना है
✍️कृष्णकांत गुर्जर

Language: Hindi
3 Likes · 292 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*भालू (बाल कविता)*
*भालू (बाल कविता)*
Ravi Prakash
वक्त की रेत
वक्त की रेत
Dr. Kishan tandon kranti
पिता
पिता
Sanjay ' शून्य'
माँ
माँ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मनोरमा
मनोरमा
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
शक्ति स्वरूपा कन्या
शक्ति स्वरूपा कन्या
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सुख हो या दुख बस राम को ही याद रखो,
सुख हो या दुख बस राम को ही याद रखो,
सत्य कुमार प्रेमी
हिंदी दोहा- अर्चना
हिंदी दोहा- अर्चना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सृजन
सृजन
Bodhisatva kastooriya
*होय जो सबका मंगल*
*होय जो सबका मंगल*
Poonam Matia
■ आज का चिंतन...
■ आज का चिंतन...
*प्रणय प्रभात*
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
Subhash Singhai
फुर्सत नहीं है
फुर्सत नहीं है
Dr. Rajeev Jain
विश्व पर्यावरण दिवस
विश्व पर्यावरण दिवस
Surinder blackpen
नींव की ईंट
नींव की ईंट
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
Dushyant Kumar Patel
हंसी मुस्कान
हंसी मुस्कान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उल्फत अय्यार होता है कभी कबार
उल्फत अय्यार होता है कभी कबार
Vansh Agarwal
कोई किसी के लिए जरुरी नहीं होता मुर्शद ,
कोई किसी के लिए जरुरी नहीं होता मुर्शद ,
शेखर सिंह
गुरु बिन गति मिलती नहीं
गुरु बिन गति मिलती नहीं
अभिनव अदम्य
बाकी है...!!
बाकी है...!!
Srishty Bansal
नवगीत : हर बरस आता रहा मौसम का मधुमास
नवगीत : हर बरस आता रहा मौसम का मधुमास
Sushila joshi
भगवान भी शर्मिन्दा है
भगवान भी शर्मिन्दा है
Juhi Grover
वृंदावन की कुंज गलियां
वृंदावन की कुंज गलियां
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दिल में भी
दिल में भी
Dr fauzia Naseem shad
बांध लो बेशक बेड़ियाँ कई,
बांध लो बेशक बेड़ियाँ कई,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
3589.💐 *पूर्णिका* 💐
3589.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
वट सावित्री
वट सावित्री
लक्ष्मी सिंह
// तुम सदा खुश रहो //
// तुम सदा खुश रहो //
Shivkumar barman
Loading...