Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2023 · 1 min read

राम हमारी आस्था, राम अमिट विश्वास।

राम हमारी आस्था, राम अमिट विश्वास।
राम सजीवन प्राण हित, राम हमारी श्वास।।

साँसों की सरगम रचूँ, जपूँ तुम्हारा नाम।
राह निहारूँ अनवरत, कब आओगे राम।।

©® सीमा अग्रवाल

Language: Hindi
2 Likes · 460 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दीवाली
दीवाली
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आदमी और मच्छर
आदमी और मच्छर
Kanchan Khanna
अजीब सी चुभन है दिल में
अजीब सी चुभन है दिल में
हिमांशु Kulshrestha
मित्रता दिवस पर एक खत दोस्तो के नाम
मित्रता दिवस पर एक खत दोस्तो के नाम
Ram Krishan Rastogi
अपनों के बीच रहकर
अपनों के बीच रहकर
पूर्वार्थ
सूर्य अराधना और षष्ठी छठ पर्व के समापन पर प्रकृति रानी यह सं
सूर्य अराधना और षष्ठी छठ पर्व के समापन पर प्रकृति रानी यह सं
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ख़राब आदमी
ख़राब आदमी
Dr MusafiR BaithA
जुड़ी हुई छतों का जमाना था,
जुड़ी हुई छतों का जमाना था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नेता जी
नेता जी
surenderpal vaidya
23/173.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/173.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेशर्मी के कहकहे,
बेशर्मी के कहकहे,
sushil sarna
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
gurudeenverma198
बैठाया था जब अपने आंचल में उसने।
बैठाया था जब अपने आंचल में उसने।
Phool gufran
भोर काल से संध्या तक
भोर काल से संध्या तक
देवराज यादव
बचपन की अठखेलियाँ
बचपन की अठखेलियाँ
लक्ष्मी सिंह
"रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
फल और मेवे
फल और मेवे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
"एजेंट" को "अभिकर्ता" इसलिए, कहा जाने लगा है, क्योंकि "दलाल"
*प्रणय प्रभात*
*केले खाता बंदर (बाल कविता)*
*केले खाता बंदर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जिस बाग में बैठा वहां पे तितलियां मिली
जिस बाग में बैठा वहां पे तितलियां मिली
कृष्णकांत गुर्जर
सुनो प्रियमणि!....
सुनो प्रियमणि!....
Santosh Soni
खिड़कियाँ -- कुछ खुलीं हैं अब भी - कुछ बरसों से बंद हैं
खिड़कियाँ -- कुछ खुलीं हैं अब भी - कुछ बरसों से बंद हैं
Atul "Krishn"
जल संरक्षण
जल संरक्षण
Preeti Karn
शून्य
शून्य
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रंगमंचक कलाकार सब दिन बनल छी, मुदा कखनो दर्शक बनबाक चेष्टा क
रंगमंचक कलाकार सब दिन बनल छी, मुदा कखनो दर्शक बनबाक चेष्टा क
DrLakshman Jha Parimal
वैमनस्य का अहसास
वैमनस्य का अहसास
Dr Parveen Thakur
जरूरत से ज्यादा
जरूरत से ज्यादा
Ragini Kumari
क्राई फॉर लव
क्राई फॉर लव
Shekhar Chandra Mitra
हिन्दी दोहा-पत्नी
हिन्दी दोहा-पत्नी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...