Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2023 · 1 min read

राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।

राम सिया की होली देख अवध में, हनुमंत लगे हर्षांने।
देखना हो तो जाकर देखो होली, गंभीरवन या बरसाने।।
कबीरा सरा रा रा रा रा रा

राकेश चौरसिया

Language: Hindi
2 Likes · 236 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राकेश चौरसिया
View all
You may also like:
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
Anand Kumar
पढ़े-लिखे पर मूढ़
पढ़े-लिखे पर मूढ़
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
भाईदूज
भाईदूज
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"विस्मृति"
Dr. Kishan tandon kranti
अंजाम
अंजाम
Bodhisatva kastooriya
* सामने आ गये *
* सामने आ गये *
surenderpal vaidya
बे-आवाज़. . . .
बे-आवाज़. . . .
sushil sarna
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
बुंदेली दोहा- गरे गौ (भाग-1)
बुंदेली दोहा- गरे गौ (भाग-1)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
சிந்தனை
சிந்தனை
Shyam Sundar Subramanian
प्रेम की गहराई
प्रेम की गहराई
Dr Mukesh 'Aseemit'
बड़ी सी इस दुनिया में
बड़ी सी इस दुनिया में
पूर्वार्थ
कितना दर्द सिमट कर।
कितना दर्द सिमट कर।
Taj Mohammad
■ लिख कर रख लो। 👍
■ लिख कर रख लो। 👍
*प्रणय प्रभात*
होली
होली
नूरफातिमा खातून नूरी
" उज़्र " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मुफ़लिसों को मुस्कुराने दीजिए।
मुफ़लिसों को मुस्कुराने दीजिए।
सत्य कुमार प्रेमी
ज़िन्दगी,
ज़िन्दगी,
Santosh Shrivastava
प्रस्फुटन
प्रस्फुटन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Divija Hitkari
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
मैं तो महज एहसास हूँ
मैं तो महज एहसास हूँ
VINOD CHAUHAN
ऐ ज़िन्दगी!
ऐ ज़िन्दगी!
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
कवि रमेशराज
बात उनकी क्या कहूँ...
बात उनकी क्या कहूँ...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
ताउम्र जलता रहा मैं तिरे वफ़ाओं के चराग़ में,
ताउम्र जलता रहा मैं तिरे वफ़ाओं के चराग़ में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
" ये धरती है अपनी...
VEDANTA PATEL
2364.पूर्णिका
2364.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ओस
ओस
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
*नदियाँ पेड़ पहाड़ हैं, जीवन का आधार(कुंडलिया)*
*नदियाँ पेड़ पहाड़ हैं, जीवन का आधार(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...