Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2023 · 1 min read

*राम-विवाह दिवस शुभ आया : कुछ चौपाई*

राम-विवाह दिवस शुभ आया : कुछ चौपाई
—————————————-
1)
अगहन मास विमल कहलाया।
राम-विवाह दिवस शुभ आया।।
राम संग सब चले बराती ।
शोभा अद्भुत कही न जाती ।।
2)
अग्निदेव साक्षी बन आए।
धेनुधूरि वेला सब पाए ।।
दशरथ सही समय पर आए।
लग्न शुद्ध से मन हर्षाए ।।
3)
गठबंधन की रस्म निभाई ।
घड़ी शुद्ध भावॅंर की आई।।
चला हास-परिहास निराला।
मन को रंजन देने वाला।।
4)
कौर राम ने सिया खिलाया।
सीता जी ने क्रम दोहराया। ।
राम-सिया की पावन जोड़ी।
जितनी करो प्रशंसा थोड़ी।।
————————————
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

1022 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
कवि अनिल कुमार पँचोली
चेतावनी हिमालय की
चेतावनी हिमालय की
Dr.Pratibha Prakash
नारी
नारी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
टूटकर बिखरना हमें नहीं आता,
टूटकर बिखरना हमें नहीं आता,
Sunil Maheshwari
किसकी किसकी कैसी फितरत
किसकी किसकी कैसी फितरत
Mukesh Kumar Sonkar
मेरी आंखों में कोई
मेरी आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
Harminder Kaur
कितना प्यार करता हू
कितना प्यार करता हू
Basant Bhagawan Roy
ईमानदारी की ज़मीन चांद है!
ईमानदारी की ज़मीन चांद है!
Dr MusafiR BaithA
सफर अंजान राही नादान
सफर अंजान राही नादान
VINOD CHAUHAN
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
Monika Verma
3366.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3366.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
अर्ज है पत्नियों से एक निवेदन करूंगा
अर्ज है पत्नियों से एक निवेदन करूंगा
शेखर सिंह
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
■ प्रभात चिंतन ...
■ प्रभात चिंतन ...
*Author प्रणय प्रभात*
रंगों का त्योहार है होली।
रंगों का त्योहार है होली।
Satish Srijan
* सामने बात आकर *
* सामने बात आकर *
surenderpal vaidya
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
जीवन में चुनौतियां हर किसी
जीवन में चुनौतियां हर किसी
नेताम आर सी
ख्वाहिशों की ज़िंदगी है।
ख्वाहिशों की ज़िंदगी है।
Taj Mohammad
खेल और राजनीती
खेल और राजनीती
'अशांत' शेखर
अच्छे नहीं है लोग ऐसे जो
अच्छे नहीं है लोग ऐसे जो
gurudeenverma198
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Er.Navaneet R Shandily
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
गंगा घाट
गंगा घाट
Preeti Sharma Aseem
नींद आने की
नींद आने की
हिमांशु Kulshrestha
न बदले...!
न बदले...!
Srishty Bansal
ज़िन्दगी के
ज़िन्दगी के
Santosh Shrivastava
ये जो फेसबुक पर अपनी तस्वीरें डालते हैं।
ये जो फेसबुक पर अपनी तस्वीरें डालते हैं।
Manoj Mahato
“ इन लोगों की बात सुनो”
“ इन लोगों की बात सुनो”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...