Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

चिरैया पूछेंगी एक दिन

चिरैया पूछेंगी एक दिन मेरा छज्जा किधर गया
तिनके तिनके से जोड़ा था वो छज्जा किधर गया
धूप में तप तप कर मैं लायी थी तिनका
बड़ी ही मेहनत से बनाया था एक छज्जा

खुशियां से भरा हुआ था मेरा एक छज्जा
बताओ तो प्यारे कहा गया मेरा वो छज्जा
पेड़ की वो डगना जिस पर बना था वो छज्जा
ना पेड़ दिख रहा है ना ही दिख रही है वो डगना

मेरे बच्चों तुम ने किधर किया है वो छज्जा
प्रेम से जीते थे और प्यार में रहते थे
उलझनों को यूं ही सुलझा लेते थे
हंसते थे गाते थे और मौज में रहते थे
मेरे बच्चों बताओ तुम ने किधर किया है वो छज्जा

86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
View all
You may also like:
*भारतमाता-भक्त तुम, मोदी तुम्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
*भारतमाता-भक्त तुम, मोदी तुम्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
💐अज्ञात के प्रति-65💐
💐अज्ञात के प्रति-65💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चला गया
चला गया
Mahendra Narayan
■मंज़रकशी :--
■मंज़रकशी :--
*Author प्रणय प्रभात*
"ए एड़ी न होती"
Dr. Kishan tandon kranti
तहजीब राखिए !
तहजीब राखिए !
साहित्य गौरव
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
Keshav kishor Kumar
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पारिजात छंद
पारिजात छंद
Neelam Sharma
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
I guess afterall, we don't search for people who are exactly
I guess afterall, we don't search for people who are exactly
पूर्वार्थ
आया तीजो का त्यौहार
आया तीजो का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
*अपना अंतस*
*अपना अंतस*
Rambali Mishra
हँसकर आँसू छुपा लेती हूँ
हँसकर आँसू छुपा लेती हूँ
Indu Singh
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
Arghyadeep Chakraborty
★मां का प्यार★
★मां का प्यार★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
खाओ जलेबी
खाओ जलेबी
surenderpal vaidya
मेरी सोच (गजल )
मेरी सोच (गजल )
umesh mehra
3237.*पूर्णिका*
3237.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जब नयनों में उत्थान के प्रकाश की छटा साफ दर्शनीय हो, तो व्यर
जब नयनों में उत्थान के प्रकाश की छटा साफ दर्शनीय हो, तो व्यर
Sukoon
Dard-e-madhushala
Dard-e-madhushala
Tushar Jagawat
बसंत
बसंत
Bodhisatva kastooriya
कविताएँ
कविताएँ
Shyam Pandey
मुझे तेरी जरूरत है
मुझे तेरी जरूरत है
Basant Bhagawan Roy
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
कवि रमेशराज
आने जाने का
आने जाने का
Dr fauzia Naseem shad
आज ही का वो दिन था....
आज ही का वो दिन था....
Srishty Bansal
Agar padhne wala kabil ho ,
Agar padhne wala kabil ho ,
Sakshi Tripathi
अभी कैसे हिम्मत हार जाऊं मैं ,
अभी कैसे हिम्मत हार जाऊं मैं ,
शेखर सिंह
Loading...