Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2024 · 1 min read

रामलला

रामलला की छवि प्राकट्य के साथ ही
सूर्य देव भी कई दिवस के बाद
आज खुद को रोक न पाए
प्रकट हो गए राम को आशीर्वाद देने
ऐसा लगा मानो
वो भी किसी आराधना में तल्लीन थे
कि अब सदा के लिए
मेरे राम का निर्वासन मिटे ।
क्यों न हो ?
माँ कौशल्या ने भी तो
कई बार उनसे कहा ही होगा
कि हे जगती के पोषक
मेरे वंश के आधार
बार-बार मेरे राम को निर्वासन क्यों?
कभी ऋषि विश्वामित्र के साथ
कभी पितृाज्ञा से
और फिर आक्रान्ताओं की मदता से
मानती हूँ जितनी बार निर्वासित हुए
और अधिक श्री व शौर्य से
महिमा मंडित होकर लौटे
विपत्तियों ने उन्हें
और प्रखर व्यक्तित्व ही दिया।
पर युगों की तपस्या के बाद
मैंने जिन्हें अंक में पाया
उनके साथ मैं जीना चाहती हूँ
बस अब विछोह नही
अब मेरा लल्ला मेरी गोद में ही रहे।
जय कौशल्या नंदन🙏

Language: Hindi
139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Saraswati Bajpai
View all
You may also like:
रूह मर गई, मगर ख्वाब है जिंदा
रूह मर गई, मगर ख्वाब है जिंदा
कवि दीपक बवेजा
जिन्दगी का मामला।
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
" यही सब होगा "
Aarti sirsat
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr. Seema Varma
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कातिल अदा
कातिल अदा
Bodhisatva kastooriya
अलिकुल की गुंजार से,
अलिकुल की गुंजार से,
sushil sarna
जुदाई की शाम
जुदाई की शाम
Shekhar Chandra Mitra
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
Ajay Kumar Vimal
सब अपनो में व्यस्त
सब अपनो में व्यस्त
DrLakshman Jha Parimal
Love
Love
Kanchan Khanna
मानवता का धर्म है,सबसे उत्तम धर्म।
मानवता का धर्म है,सबसे उत्तम धर्म।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
Shashi kala vyas
सुबह-सुबह की बात है
सुबह-सुबह की बात है
Neeraj Agarwal
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जिस दिन हम ज़मी पर आये ये आसमाँ भी खूब रोया था,
जिस दिन हम ज़मी पर आये ये आसमाँ भी खूब रोया था,
Ranjeet kumar patre
You know ,
You know ,
Sakshi Tripathi
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
न मौत आती है ,न घुटता है दम
न मौत आती है ,न घुटता है दम
Shweta Soni
- एक दिन उनको मेरा प्यार जरूर याद आएगा -
- एक दिन उनको मेरा प्यार जरूर याद आएगा -
bharat gehlot
गम के दिनों में साथ कोई भी खड़ा न था।
गम के दिनों में साथ कोई भी खड़ा न था।
सत्य कुमार प्रेमी
◆आज की बात◆
◆आज की बात◆
*Author प्रणय प्रभात*
3127.*पूर्णिका*
3127.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"मिट्टी की उल्फत में"
Dr. Kishan tandon kranti
पाया किसने आत्म को ,भाग्यवान वह कौन (कुंडलिया)
पाया किसने आत्म को ,भाग्यवान वह कौन (कुंडलिया)
Ravi Prakash
बरखा
बरखा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
औरतें ऐसी ही होती हैं
औरतें ऐसी ही होती हैं
Mamta Singh Devaa
राहुल की अंतरात्मा
राहुल की अंतरात्मा
Ghanshyam Poddar
While proving me wrong, keep one thing in mind.
While proving me wrong, keep one thing in mind.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
Rashmi Ranjan
Loading...