Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jan 2024 · 1 min read

रामलला ! अभिनंदन है

स्वागत है, अभिनंदन है
“हे राम” ! तुम्हारा वंदन है
‘रामलला’ के स्वरूप के
मस्तक पे तिलक -चंदन है ।

आओ हे प्रिय ‘रामलला’ !
समूर्ण है स्वरूप- कला
योगी अरुण ने तुम्हें गढ़ा
कहता जैसा ‘रामायण’ है ।

हे रघुनंदन ! हे दशरथ नंदन !
कौशल्या के अतुल्य – कुंदन
हमारे शरीर में, सांसों में
तुम्हारे नाम का स्पंदन है ।

वशिष्ठ ने तुम्हे “राम” कहा
विश्वामित्र ने तुम्हें “ज्ञान” कहा
लल्ला – लल्ला सबने पुकारा
भारत का नयन- अंजन है ।

सरयू में समा गए थे तुम
सरयू से नहाकर आओ तुम
जन्मभूमि पर तुम विराजों
संसार में तुम्हारा गुंजन है ।

अयोध्या अब अयोध्या धाम है
जन -जन का यह तीर्थ क्षेत्र है
नव्य और भव्य मंदिर में
प्राण – प्रतिष्ठा का अनुष्ठान है ।

उत्सव का वातावरण है
चहु:ओर आनंद छाया है
कहीं हो रही है रामकथा
कहीं रामलीला का मंचन है ।

तुम विष्णु के अवतारी हो
तुम सबके तारण –
lहारी हो
तुम सबके उद्धारक हो
सर्वत्र पुरुषोत्तम का अर्चन है ।

भारत का अभ्युदय हो
सतत् उत्थान -उन्नयन हो
सभी स्वस्थ, घर- सुघर हो
कण- कण यहां का कंचन है ।

स्वागत है , अभिनंदन है
“हे राम”तुम्हारा वंदन है
‘रामलला’ के स्वरूप के
मस्तक पर तिलक चंदन है ।
***********************************
@रचना- घनश्याम पोद्दार
मुंगेर

Language: Hindi
161 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विद्रोही प्रेम
विद्रोही प्रेम
Rashmi Ranjan
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*इमली (बाल कविता)*
*इमली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
पूर्वार्थ
आँखों के आंसू झूठे है, निश्छल हृदय से नहीं झरते है।
आँखों के आंसू झूठे है, निश्छल हृदय से नहीं झरते है।
Buddha Prakash
उगाएँ प्रेम की फसलें, बढ़ाएँ खूब फुलवारी।
उगाएँ प्रेम की फसलें, बढ़ाएँ खूब फुलवारी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
शीर्षक:जय जय महाकाल
शीर्षक:जय जय महाकाल
Dr Manju Saini
सरकार बिक गई
सरकार बिक गई
साहित्य गौरव
चुनाव का मौसम
चुनाव का मौसम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सत्य क्या है ?
सत्य क्या है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जगदाधार सत्य
जगदाधार सत्य
महेश चन्द्र त्रिपाठी
रात का रक्स जारी है
रात का रक्स जारी है
हिमांशु Kulshrestha
बड़ी मछली सड़ी मछली
बड़ी मछली सड़ी मछली
Dr MusafiR BaithA
दोजख से वास्ता है हर इक आदमी का
दोजख से वास्ता है हर इक आदमी का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कविता
कविता
Rambali Mishra
कौन किसके सहारे कहाँ जीता है
कौन किसके सहारे कहाँ जीता है
VINOD CHAUHAN
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि  ...फेर सेंसर ..
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि ...फेर सेंसर .."पद्
DrLakshman Jha Parimal
होगी तुमको बहुत मुश्किल
होगी तुमको बहुत मुश्किल
gurudeenverma198
प्याली से चाय हो की ,
प्याली से चाय हो की ,
sushil sarna
प्रेम।की दुनिया
प्रेम।की दुनिया
भरत कुमार सोलंकी
#हमारे_सरोकार
#हमारे_सरोकार
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल/नज़्म - दिल में ये हलचलें और है शोर कैसा
ग़ज़ल/नज़्म - दिल में ये हलचलें और है शोर कैसा
अनिल कुमार
"ऐ मितवा"
Dr. Kishan tandon kranti
एक और सुबह तुम्हारे बिना
एक और सुबह तुम्हारे बिना
Surinder blackpen
कहते हैं तुम्हें ही जीने का सलीका नहीं है,
कहते हैं तुम्हें ही जीने का सलीका नहीं है,
manjula chauhan
Infatuation
Infatuation
Vedha Singh
मनोहन
मनोहन
Seema gupta,Alwar
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
Suryakant Dwivedi
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
कवि दीपक बवेजा
Loading...