Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2024 · 1 min read

रात

रात
हो जाती है
लहूलुहान
काँटे हिज़्र के
सोने नहीं देते
तमाम शब

सुशील सरना

64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
2902.*पूर्णिका*
2902.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इश्क़ में सरेराह चलो,
इश्क़ में सरेराह चलो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
VINOD CHAUHAN
प्राकृतिक के प्रति अपने कर्तव्य को,
प्राकृतिक के प्रति अपने कर्तव्य को,
goutam shaw
आंखों की नशीली बोलियां
आंखों की नशीली बोलियां
Surinder blackpen
With Grit in your mind
With Grit in your mind
Dhriti Mishra
वंदेमातरम
वंदेमातरम
Bodhisatva kastooriya
धरती के सबसे क्रूर जानवर
धरती के सबसे क्रूर जानवर
*Author प्रणय प्रभात*
" ढले न यह मुस्कान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
जनता जनार्दन
जनता जनार्दन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुख भी बाँटा है
सुख भी बाँटा है
Shweta Soni
हिंदी शायरी का एंग्री यंग मैन
हिंदी शायरी का एंग्री यंग मैन
Shekhar Chandra Mitra
सरसी छंद और विधाएं
सरसी छंद और विधाएं
Subhash Singhai
तू इतनी खूबसूरत है...
तू इतनी खूबसूरत है...
आकाश महेशपुरी
"तेरे बारे में"
Dr. Kishan tandon kranti
मुकाम
मुकाम
Swami Ganganiya
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नफरत दिलों की मिटाने, आती है यह होली
नफरत दिलों की मिटाने, आती है यह होली
gurudeenverma198
काश लौट कर आए वो पुराने जमाने का समय ,
काश लौट कर आए वो पुराने जमाने का समय ,
Shashi kala vyas
राम पर हाइकु
राम पर हाइकु
Sandeep Pande
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आँगन की दीवारों से ( समीक्षा )
आँगन की दीवारों से ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ज़िंदगी तेरा हक़
ज़िंदगी तेरा हक़
Dr fauzia Naseem shad
आज इस देश का मंजर बदल गया यारों ।
आज इस देश का मंजर बदल गया यारों ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जीवन - अस्तित्व
जीवन - अस्तित्व
Shyam Sundar Subramanian
*कुहरा दूर-दूर तक छाया (बाल कविता)*
*कुहरा दूर-दूर तक छाया (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मुझे भुला दो बेशक लेकिन,मैं  तो भूल  न  पाऊंगा।
मुझे भुला दो बेशक लेकिन,मैं तो भूल न पाऊंगा।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
अंहकार
अंहकार
Neeraj Agarwal
चंद घड़ी उसके साथ गुजारी है
चंद घड़ी उसके साथ गुजारी है
Anand.sharma
Loading...