Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2016 · 1 min read

राज दोहावली से –

जब अंधियारा था रमां, राम रमाया नाय|
विकट अंधेरा पायके , रमा रमा चिल्लाय ||

Language: Hindi
576 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" फ़ौजी"
Yogendra Chaturwedi
*जनता के कब पास है, दो हजार का नोट* *(कुंडलिया)*
*जनता के कब पास है, दो हजार का नोट* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कुछ पंक्तियाँ
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
लोग शोर करते रहे और मैं निस्तब्ध बस सांस लेता रहा,
लोग शोर करते रहे और मैं निस्तब्ध बस सांस लेता रहा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
एक एक ख्वाहिशें आँख से
एक एक ख्वाहिशें आँख से
Namrata Sona
दिल का हाल
दिल का हाल
पूर्वार्थ
क्या ऐसी स्त्री से…
क्या ऐसी स्त्री से…
Rekha Drolia
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जन्म मरण न जीवन है।
जन्म मरण न जीवन है।
Rj Anand Prajapati
तुम्हारे अवारा कुत्ते
तुम्हारे अवारा कुत्ते
Maroof aalam
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
पापा की तो बस यही परिभाषा हैं
पापा की तो बस यही परिभाषा हैं
Dr Manju Saini
"जब"
Dr. Kishan tandon kranti
मनीआर्डर से ज्याद...
मनीआर्डर से ज्याद...
Amulyaa Ratan
बस तुम्हें मैं यें बताना चाहता हूं .....
बस तुम्हें मैं यें बताना चाहता हूं .....
Keshav kishor Kumar
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
The_dk_poetry
3308.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3308.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
gurudeenverma198
तुम से ना हो पायेगा
तुम से ना हो पायेगा
Gaurav Sharma
गुरु महादेव रमेश गुरु है,
गुरु महादेव रमेश गुरु है,
Satish Srijan
रामायण से सीखिए,
रामायण से सीखिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मन की कामना
मन की कामना
Basant Bhagawan Roy
तपोवन है जीवन
तपोवन है जीवन
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
!! सोपान !!
!! सोपान !!
Chunnu Lal Gupta
पिता
पिता
लक्ष्मी सिंह
जिंदगी बस एक सोच है।
जिंदगी बस एक सोच है।
Neeraj Agarwal
............
............
शेखर सिंह
सविनय निवेदन
सविनय निवेदन
कृष्णकांत गुर्जर
Loading...