Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2023 · 1 min read

राजाराम मोहन राॅय

पुनर्जागरण के रहे, राॅय जी अग्रदूत
सब कुरीतियों को मिटा, वो कहलाय सपूत

नवभारत निर्माण को, जो रहे वचनबद्ध
राजा मोहन राॅय से, था उनका संबद्ध

मातश्री नाम तारिणी, पिताश्री रमाकांत
जन्मे राजाराम जी, मनमोहक संभ्रांत

थे भारतीय प्रेस के, सदा समर्थक आप
अपनी भाषा में करो, कर्मकाण्ड हर जाप

मोहन राजाराम का, अमर रहेगा नाम
सती प्रथा के अन्त को, छेड़ा था संग्राम

राजा मोहन राॅय थे, सबसे प्रखर प्रबुद्ध
लड़ते रहे समाज से, निरन्तर महायुद्ध

Language: Hindi
2 Likes · 278 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA
विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ज़िंदगी पर तो
ज़िंदगी पर तो
Dr fauzia Naseem shad
सच्ची बकरीद
सच्ची बकरीद
Satish Srijan
कानून हो दो से अधिक, बच्चों का होना बंद हो ( मुक्तक )
कानून हो दो से अधिक, बच्चों का होना बंद हो ( मुक्तक )
Ravi Prakash
🌻 *गुरु चरणों की धूल* 🌻
🌻 *गुरु चरणों की धूल* 🌻
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
“तड़कता -फड़कता AMC CENTRE LUCKNOW का रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम” (संस्मरण 1973)
“तड़कता -फड़कता AMC CENTRE LUCKNOW का रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम” (संस्मरण 1973)
DrLakshman Jha Parimal
तन्हाई
तन्हाई
Sidhartha Mishra
वक्त के रूप में हम बदल जायेंगे...,
वक्त के रूप में हम बदल जायेंगे...,
कवि दीपक बवेजा
अस्त हुआ रवि वीत राग का /
अस्त हुआ रवि वीत राग का /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इन आँखों को हो गई,
इन आँखों को हो गई,
sushil sarna
जीवन का कठिन चरण
जीवन का कठिन चरण
पूर्वार्थ
मक्खन बाजी
मक्खन बाजी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हँसते गाते हुए
हँसते गाते हुए
Shweta Soni
वेलेंटाइन एक ऐसा दिन है जिसका सबके ऊपर एक सकारात्मक प्रभाव प
वेलेंटाइन एक ऐसा दिन है जिसका सबके ऊपर एक सकारात्मक प्रभाव प
Rj Anand Prajapati
वोट डालने जाना
वोट डालने जाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धरती का बेटा
धरती का बेटा
Prakash Chandra
"संयम"
Dr. Kishan tandon kranti
.........,
.........,
शेखर सिंह
चाय की प्याली!
चाय की प्याली!
कविता झा ‘गीत’
जीवन यात्रा
जीवन यात्रा
विजय कुमार अग्रवाल
****बहता मन****
****बहता मन****
Kavita Chouhan
*माँ सरस्वती जी*
*माँ सरस्वती जी*
Rituraj shivem verma
■ लघुकथा
■ लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
Mahender Singh
!! जानें कितने !!
!! जानें कितने !!
Chunnu Lal Gupta
बचपन बेटी रूप में
बचपन बेटी रूप में
लक्ष्मी सिंह
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
Dr.Rashmi Mishra
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
Ajay Mishra
कोई फैसला खुद के लिए, खुद से तो करना होगा,
कोई फैसला खुद के लिए, खुद से तो करना होगा,
Anand Kumar
3338.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3338.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Loading...