Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Oct 2023 · 1 min read

राजस्थान

राजस्थान
भाग्य मे विधाता से कुछ नहीं मिला
धरती की कोख से पानी नहीं मिला
रहने को भूमि मिली बंजर मरुधरा
फिर भी दुर्भाग्य का हमें नहीं गिला

खाने को दो फाग का बाजरा मिला
पीने का पानी भी बारिश का मिला
खेजड़ी के साथ अरावली की पहाड़ी
मौसम में हम को अकाल ही मिला

देश को इतिहास राजस्थान से मिला
धर्म की रक्षा हेतु हम को युध मिला
मातृभूमि की प्यास भी लहू से बुझाई
फिर भी जन गण में स्थान नहीं मिला
अनिल चौबिसा
चित्तौड़गढ़ राजस्थान

1 Like · 84 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चन्द ख्वाब
चन्द ख्वाब
Kshma Urmila
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
ruby kumari
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
Rj Anand Prajapati
हिंदी
हिंदी
पंकज कुमार कर्ण
Ek galti har roj kar rhe hai hum,
Ek galti har roj kar rhe hai hum,
Sakshi Tripathi
जून की दोपहर (कविता)
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
एक दिन तो कभी ऐसे हालात हो
एक दिन तो कभी ऐसे हालात हो
Johnny Ahmed 'क़ैस'
कितने छेड़े और  कितने सताए  गए है हम
कितने छेड़े और कितने सताए गए है हम
Yogini kajol Pathak
दादा का लगाया नींबू पेड़ / Musafir Baitha
दादा का लगाया नींबू पेड़ / Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
2244.
2244.
Dr.Khedu Bharti
राह नीर की छोड़
राह नीर की छोड़
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कभी चुभ जाती है बात,
कभी चुभ जाती है बात,
नेताम आर सी
"दोस्ती"
Dr. Kishan tandon kranti
🌙Chaand Aur Main✨
🌙Chaand Aur Main✨
Srishty Bansal
***
*** " तुम आंखें बंद कर लेना.....!!! " ***
VEDANTA PATEL
■ आदी हैं मल-वमन के।।
■ आदी हैं मल-वमन के।।
*Author प्रणय प्रभात*
ये पांच बातें
ये पांच बातें
Yash mehra
न दिया धोखा न किया कपट,
न दिया धोखा न किया कपट,
Satish Srijan
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Santosh Shrivastava
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
SC/ST HELPLINE NUMBER 14566
SC/ST HELPLINE NUMBER 14566
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
DrLakshman Jha Parimal
जब से देखा है तुमको
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
दर्दे दिल…….!
दर्दे दिल…….!
Awadhesh Kumar Singh
मेरी शायरी की छांव में
मेरी शायरी की छांव में
शेखर सिंह
*भोग कर सब स्वर्ग-सुख, आना धरा पर फिर पड़ा (गीत)*
*भोग कर सब स्वर्ग-सुख, आना धरा पर फिर पड़ा (गीत)*
Ravi Prakash
कभी जब नैन  मतवारे  किसी से चार होते हैं
कभी जब नैन मतवारे किसी से चार होते हैं
Dr Archana Gupta
कावड़ियों की धूम है,
कावड़ियों की धूम है,
manjula chauhan
उतरे हैं निगाह से वे लोग भी पुराने
उतरे हैं निगाह से वे लोग भी पुराने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अजीब मानसिक दौर है
अजीब मानसिक दौर है
पूर्वार्थ
Loading...