Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Oct 2016 · 1 min read

राजयोगमहागीता: निरंजन निर्पेक्ष हैनिस्पृह स्वयं सिद्ध:: जितेन्द्र कमलआनंद( पो ६९)

सारात्सार : घनाक्षरी: ३/२१
——————————-
निरंजन निर्पेक्ष है , निस्पृह स्वयं सिद्ध ,
जान जाता जन्म जात ज्ञान का भण्डार है ।
वो आत्मविश्वस्त और आत्मकेंद्रित होकर,़
सदा वर्तमान स्वयं भव सिंधु पार है ।
कर्तव्य निर्वहन को कर्तव्य परायणता ,
परम अपेक्षित है , जीवन निखार हैं ।
जय हो या पराजय हो , प्रारब्ध अधीन वह–
होकर अचिंत्य ही रखता व्यवहार है ।।३/ २१ घनाक्षरी ।।
—– जितेंद्रकमलआनंद| , रामपुर ( उ प्र )

Language: Hindi
175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
gurudeenverma198
मर्द रहा
मर्द रहा
Kunal Kanth
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
Anil Mishra Prahari
due to some reason or  excuses we keep busy in our life but
due to some reason or excuses we keep busy in our life but
पूर्वार्थ
इंतज़ार एक दस्तक की, उस दरवाजे को थी रहती, चौखट पर जिसकी धूल, बरसों की थी जमी हुई।
इंतज़ार एक दस्तक की, उस दरवाजे को थी रहती, चौखट पर जिसकी धूल, बरसों की थी जमी हुई।
Manisha Manjari
परिंदा
परिंदा
VINOD CHAUHAN
जीवन में सफलता छोटी हो या बड़ी
जीवन में सफलता छोटी हो या बड़ी
Dr.Rashmi Mishra
एक तूही ममतामई
एक तूही ममतामई
Basant Bhagawan Roy
आचार्य - डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
आचार्य - डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मिसाल रेशमा
मिसाल रेशमा
Dr. Kishan tandon kranti
3179.*पूर्णिका*
3179.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
छन-छन के आ रही है जो बर्गे-शजर से धूप
छन-छन के आ रही है जो बर्गे-शजर से धूप
Sarfaraz Ahmed Aasee
हिन्दी के हित
हिन्दी के हित
surenderpal vaidya
ये मतलबी दुनिया है साहब,
ये मतलबी दुनिया है साहब,
Umender kumar
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
Rj Anand Prajapati
क्रव्याद
क्रव्याद
Mandar Gangal
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
भूख
भूख
Neeraj Agarwal
*पहले वाले  मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
*पहले वाले मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
निरुद्देश्य जीवन भी कोई जीवन होता है ।
निरुद्देश्य जीवन भी कोई जीवन होता है ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
तप रही जमीन और
तप रही जमीन और
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
New Love
New Love
Vedha Singh
नाथ मुझे अपनाइए,तुम ही प्राण आधार
नाथ मुझे अपनाइए,तुम ही प्राण आधार
कृष्णकांत गुर्जर
उलझन से जुझनें की शक्ति रखें
उलझन से जुझनें की शक्ति रखें
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सूर्यदेव
सूर्यदेव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जीवन में सबसे बड़ा प्रतिद्वंद्वी मैं स्वयं को मानती हूँ
जीवन में सबसे बड़ा प्रतिद्वंद्वी मैं स्वयं को मानती हूँ
ruby kumari
میرے اس دل میں ۔
میرے اس دل میں ۔
Dr fauzia Naseem shad
बिन मांगे ही खुदा ने भरपूर दिया है
बिन मांगे ही खुदा ने भरपूर दिया है
हरवंश हृदय
"बचपन याद आ रहा"
Sandeep Kumar
*शिक्षा-क्षेत्र की अग्रणी व्यक्तित्व शोभा नंदा जी : शत शत नमन*
*शिक्षा-क्षेत्र की अग्रणी व्यक्तित्व शोभा नंदा जी : शत शत नमन*
Ravi Prakash
Loading...