Oct 20, 2016 · 1 min read

राजयोगमहागीता: निरंजन निर्पेक्ष हैनिस्पृह स्वयं सिद्ध:: जितेन्द्र कमलआनंद( पो ६९)

सारात्सार : घनाक्षरी: ३/२१
——————————-
निरंजन निर्पेक्ष है , निस्पृह स्वयं सिद्ध ,
जान जाता जन्म जात ज्ञान का भण्डार है ।
वो आत्मविश्वस्त और आत्मकेंद्रित होकर,़
सदा वर्तमान स्वयं भव सिंधु पार है ।
कर्तव्य निर्वहन को कर्तव्य परायणता ,
परम अपेक्षित है , जीवन निखार हैं ।
जय हो या पराजय हो , प्रारब्ध अधीन वह–
होकर अचिंत्य ही रखता व्यवहार है ।।३/ २१ घनाक्षरी ।।
—– जितेंद्रकमलआनंद| , रामपुर ( उ प्र )

90 Views
You may also like:
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
विश्व मजदूर दिवस पर दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
वो काली रात...!
मनोज कर्ण
💐प्रेम की राह पर-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
【10】 ** खिलौने बच्चों का संसार **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"साहित्यकार भी गुमनाम होता है"
Ajit Kumar "Karn"
*झाँसी की क्षत्राणी । (झाँसी की वीरांगना/वीरनारी)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
Anamika Singh
महेनतकश इंसान हैं ... नहीं कोई मज़दूर....
Dr. Alpa H.
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मुक्तक- जो लड़ना भूल जाते हैं...
आकाश महेशपुरी
🌺प्रेम की राह पर-45🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
**अशुद्ध अछूत - नारी **
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🌷"फूलों की तरह जीना है"🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
क्या कहते हो हमसे।
Taj Mohammad
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
प्रेरक संस्मरण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...