Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Oct 2016 · 1 min read

राजयोगमहागीता: गोकुलका धामप्यारा, नारायण- सतनाम: जितेंद्रकमलआनंद ( पोस्ट५८)

घनाक्षरी:::
———-गोकुल का धाम प्यारा , नारायण सतनाम
जिनका सच्चिदानंद घन नाम प्यारा है ।
चिन्मय कमल कर्णिका में जो निवास करें ,
परम पुरुष उन्हें वेदों ने उच्चारा है ।
नित्य ही किया है हमने जिनको समर्पण,
आज उन्हीं ब्रह्म को ही हमने पुकारा है ।
परम प्रिय सखा के गुण — गान गाते — गाते,
कमल आनंद मुख वही काव्यधारा है ।।घनाक्षरी।।

—— जितेन्द्र कमल आनंद

Language: Hindi
339 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फिक्र (एक सवाल)
फिक्र (एक सवाल)
umesh mehra
मात खा जाएगा बेटा!
मात खा जाएगा बेटा!
*Author प्रणय प्रभात*
कुत्ते
कुत्ते
Dr MusafiR BaithA
ख़्याल
ख़्याल
Dr. Seema Varma
💐💐उनके दिल की दहलीज़ को छुआ मैंने💐💐
💐💐उनके दिल की दहलीज़ को छुआ मैंने💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चक्षु द्वय काजर कोठरी , मोती अधरन बीच ।
चक्षु द्वय काजर कोठरी , मोती अधरन बीच ।
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
The emotional me and my love
The emotional me and my love
नव लेखिका
कमबख्त ये दिल जिसे अपना समझा,वो बेवफा निकला।
कमबख्त ये दिल जिसे अपना समझा,वो बेवफा निकला।
Sandeep Mishra
हमारा सफ़र
हमारा सफ़र
Manju sagar
'निशा नशीली'
'निशा नशीली'
Godambari Negi
ज़रूरतमंद की मदद
ज़रूरतमंद की मदद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*युद्ध लड़ सको तो रण में, कुछ शौर्य दिखाने आ जाना (मुक्तक)*
*युद्ध लड़ सको तो रण में, कुछ शौर्य दिखाने आ जाना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
किवाड़ खा गई
किवाड़ खा गई
AJAY AMITABH SUMAN
बसंत हो
बसंत हो
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
चिल्हर
चिल्हर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मिलो ना तुम अगर तो अश्रुधारा छूट जाती है ।
मिलो ना तुम अगर तो अश्रुधारा छूट जाती है ।
Arvind trivedi
हे मानव मत हो तू परेशान
हे मानव मत हो तू परेशान
gurudeenverma198
सांप्रदायिक राजनीति
सांप्रदायिक राजनीति
Shekhar Chandra Mitra
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
surenderpal vaidya
मैं भौंर की हूं लालिमा।
मैं भौंर की हूं लालिमा।
Surinder blackpen
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आईना
आईना
Saraswati Bajpai
*हथेली  पर  बन जान ना आए*
*हथेली पर बन जान ना आए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
Mahender Singh Manu
उम्र अपना निशान
उम्र अपना निशान
Dr fauzia Naseem shad
भारत का संविधान
भारत का संविधान
rkchaudhary2012
संतोष करना ही आत्मा
संतोष करना ही आत्मा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
# जय.….जय श्री राम.....
# जय.….जय श्री राम.....
Chinta netam " मन "
गुम है सरकारी बजट,
गुम है सरकारी बजट,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...