Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

राजनीति और वोट

राजनीति और वोट

बनना नेता नहीं आसान
राजनीति अपनाना पड़ता है,
जनता से झूठे वादे संग,
विश्वास दिलाना पड़ता है,
थोथे खोखले दावों संग,
चुनाव मैदान में जाना पड़ता है,
“हूं ” जनता का सच्चा सेवक
यही जतलाना पड़ता है,
बड़े बड़े बेलते पापड़ संग
राजनीति रोटी सिंकवाना पड़ता है,
भोली भाली जनता को प्रलोभन दिखाना पड़ता है,
राजनीति के अखाड़े में दांव अजमाना पड़ता है,
झूठे भाषण, चुनावी रैली,
माहौल बनाना पड़ता है,
वोटिंग के पोलिंग बूथ पे जाकर धौंस जमाना पड़ता है,
कतार में पांच पांच सौ के नोट
हर एक पर लूटाना पड़ता है,
नेता बनने खातिर यारों
कुछ ठाठ बनाना पड़ता है,
गलती से यदि जीत गया तो वादों को भुलाना पड़ता है, भोली भाली जनता को मुद्दे से भटकाना पड़ताहै,
ऐशो आराम की दुनिया जीकर
नोट कमाना पड़ता है,
पांच पुश्तें चैन से खा सके ,
वैसा धन जुटाना पड़ता है,
बनना नेता आसान नहीं ,
राजनीति में आना पड़ता है|

वोट:- अपना मत मैं उसी को दूंगी, जो जनता का सेवक हो,

प्रजा की बात को माथ पर रखकर,
समाज कल्याण की बात करे,
जो नारी के सम्मान और हित में, जनमत में विश्वास भरे।

जो विकास बढ़ायें खुशियां बांटे,
सबके पग के हरे वो कांटे।

विज्ञान,विधान और नीति नियम संग
मैं महफूज़ हूं आश्वस्त कराये।
बिजली पानी और खुशहाली
गांव शहर में तब्दीली लाये।
भरे न वो भण्डार बस अपना
पब्लिक का पैसा पब्लिक पे लुटाये,
अपना वोट मैं उसी को दूंगी जो मन में यह विश्वास जगाये।

डॉ कुमुद श्रीवास्तव वर्मा कुमुदिनी लखनऊ

1 Like · 36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं अपने लिए नहीं अपनों के लिए जीता हूं मेरी एक ख्वाहिश है क
मैं अपने लिए नहीं अपनों के लिए जीता हूं मेरी एक ख्वाहिश है क
Ranjeet kumar patre
सारे दुख दर्द होजाते है खाली,
सारे दुख दर्द होजाते है खाली,
Kanchan Alok Malu
****मतदान करो****
****मतदान करो****
Kavita Chouhan
हर मौहब्बत का एहसास तुझसे है।
हर मौहब्बत का एहसास तुझसे है।
Phool gufran
सफर
सफर
Ritu Asooja
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Chinkey Jain
23/81.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/81.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यादगार बनाएं
यादगार बनाएं
Dr fauzia Naseem shad
सज जाऊं तेरे लबों पर
सज जाऊं तेरे लबों पर
Surinder blackpen
ओ चंदा मामा!
ओ चंदा मामा!
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
संयुक्त परिवार
संयुक्त परिवार
विजय कुमार अग्रवाल
" मेरे जीवन का राज है राज "
Dr Meenu Poonia
आपकी क्रिया-प्रतिक्रिया ही आपकी वैचारिक जीवंतता
आपकी क्रिया-प्रतिक्रिया ही आपकी वैचारिक जीवंतता
*प्रणय प्रभात*
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
प्रेमदास वसु सुरेखा
मुझसे गुस्सा होकर
मुझसे गुस्सा होकर
Mr.Aksharjeet
राखी की यह डोर।
राखी की यह डोर।
Anil Mishra Prahari
*पद का मद सबसे बड़ा, खुद को जाता भूल* (कुंडलिया)
*पद का मद सबसे बड़ा, खुद को जाता भूल* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
कर्म रूपी मूल में श्रम रूपी जल व दान रूपी खाद डालने से जीवन
कर्म रूपी मूल में श्रम रूपी जल व दान रूपी खाद डालने से जीवन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
#शीर्षक:-तो क्या ही बात हो?
#शीर्षक:-तो क्या ही बात हो?
Pratibha Pandey
जीवन छोटा सा कविता
जीवन छोटा सा कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
सौगंध
सौगंध
Shriyansh Gupta
इतना आदर
इतना आदर
Basant Bhagawan Roy
सच्ची होली
सच्ची होली
Mukesh Kumar Rishi Verma
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
!..............!
!..............!
शेखर सिंह
"वाकया"
Dr. Kishan tandon kranti
कभी कभी चाहती हूँ
कभी कभी चाहती हूँ
ruby kumari
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*मनुष्य शरीर*
*मनुष्य शरीर*
Shashi kala vyas
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...