Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 17, 2016 · 1 min read

राखी

तिलक प्यार का जो
माथे पर सजा है
राखी जो हाथ में
तेरे भाई
मुझे हमेशा पास
तेरे बना रखेगा
बचपन की जो भोली
पी हरकतें है
याद उनकी
हमेशा बना रखेगा

आज नहीं हो पास
भाई तुम मेरे
पर याद मुझे है
आज भी तुम्हारा
प्यार भरा स्नेह
जो दुलार देता मुझे
पिता सा आज
हो तुम सात समुन्दर पार
पर मेरी स्मृतियों में
मेरे पास हो

स्नेह की यह भेट
पंक्तियों तुमको
निवेदित करती हूँ
हे भाई मेरी झोली मे
प्यार का जो सागर
तुझ पे उडेलती हूँ
तुम जहाँ भी रहो बस
आवाद ही रहना
हर पल दुआ
तुझको देती हूँ

डॉ मधु त्रिवेदी

72 Likes · 272 Views
You may also like:
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
*"पिता"*
Shashi kala vyas
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
पिता
Satpallm1978 Chauhan
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...