Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Aug 2016 · 1 min read

राखी

तिलक प्यार का जो
माथे पर सजा है
राखी जो हाथ में
तेरे भाई
मुझे हमेशा पास
तेरे बना रखेगा
बचपन की जो भोली
पी हरकतें है
याद उनकी
हमेशा बना रखेगा

आज नहीं हो पास
भाई तुम मेरे
पर याद मुझे है
आज भी तुम्हारा
प्यार भरा स्नेह
जो दुलार देता मुझे
पिता सा आज
हो तुम सात समुन्दर पार
पर मेरी स्मृतियों में
मेरे पास हो

स्नेह की यह भेट
पंक्तियों तुमको
निवेदित करती हूँ
हे भाई मेरी झोली मे
प्यार का जो सागर
तुझ पे उडेलती हूँ
तुम जहाँ भी रहो बस
आवाद ही रहना
हर पल दुआ
तुझको देती हूँ

डॉ मधु त्रिवेदी

Language: Hindi
72 Likes · 341 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
महफ़िल से जाम से
महफ़िल से जाम से
Satish Srijan
#आज_का_आह्वान
#आज_का_आह्वान
*Author प्रणय प्रभात*
यदि कोई आपकी कॉल को एक बार में नहीं उठाता है तब आप यह समझिए
यदि कोई आपकी कॉल को एक बार में नहीं उठाता है तब आप यह समझिए
Rj Anand Prajapati
आज़ादी के बाद भारत में हुए 5 सबसे बड़े भीषण रेल दुर्घटना
आज़ादी के बाद भारत में हुए 5 सबसे बड़े भीषण रेल दुर्घटना
Shakil Alam
देखी है ख़ूब मैंने भी दिलदार की अदा
देखी है ख़ूब मैंने भी दिलदार की अदा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"शख्सियत"
Dr. Kishan tandon kranti
भटक ना जाना तुम।
भटक ना जाना तुम।
Taj Mohammad
निगाहें मिलाके सितम ढाने वाले ।
निगाहें मिलाके सितम ढाने वाले ।
Phool gufran
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सावन का महीना
सावन का महीना
विजय कुमार अग्रवाल
हाँ, कल तक तू मेरा सपना थी
हाँ, कल तक तू मेरा सपना थी
gurudeenverma198
बेवफा मैं कहूँ कैसे उसको बता,
बेवफा मैं कहूँ कैसे उसको बता,
Arvind trivedi
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"इस रोड के जैसे ही _
Rajesh vyas
*जिंदगी से हर किसी को, ही असीमित प्यार है (हिंदी गजल)*
*जिंदगी से हर किसी को, ही असीमित प्यार है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
उनसे बिछड़ कर ना जाने फिर कहां मिले
उनसे बिछड़ कर ना जाने फिर कहां मिले
श्याम सिंह बिष्ट
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
विमला महरिया मौज
नवरात्रि-गीत /
नवरात्रि-गीत /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सच
सच
Neeraj Agarwal
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Love
Love
Kanchan Khanna
2824. *पूर्णिका*
2824. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बड़ा मन करऽता।
बड़ा मन करऽता।
जय लगन कुमार हैप्पी
जीवन के रंग
जीवन के रंग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
********* आजादी की कीमत **********
********* आजादी की कीमत **********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हल्लाबोल
हल्लाबोल
Shekhar Chandra Mitra
गणतंत्र दिवस की बधाई।।
गणतंत्र दिवस की बधाई।।
Rajni kapoor
अपने वजूद की
अपने वजूद की
Dr fauzia Naseem shad
मनोकामना
मनोकामना
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...