Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2016 · 1 min read

राखी के दोहे……..

रक्षाबंधन ……

भेज रही भैया तुम्हें, राखी के दो तार,
बन्द लिफ़ाफ़े में किया,दुनिया भर का प्यार ।

भेजी पाती नेह की, शब्द पुष्प के हार,
छोटी बहना कह रही ,कर लेना स्वीकार ।

रूठे भैया की करूं, मैं सौ सौ मनुहार
शायद रूठे इस लिये, आ न सकी इस बार ।

सावन बरसे आंख से, ब्याही कितनी दूर,
बाबुल भी मजबूर थे मैं भी हूं मजबूर ।

भैया खत भेजा नहीं, ना कोई संदेस,
लो सावन भी आ गया, बहन बसी परदेस ।

भाई, बाबुल रो रहे, बहना भी बेज़ार,
मम्मी की रुकती नहीं आंखों से जलधार ।

-आर० सी० शर्मा “आरसी”

Language: Hindi
3 Likes · 3 Comments · 1881 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुरु सर्व ज्ञानो का खजाना
गुरु सर्व ज्ञानो का खजाना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
The Earth Moves
The Earth Moves
Buddha Prakash
खेल और राजनीती
खेल और राजनीती
'अशांत' शेखर
"अटल सत्य"
Dr. Kishan tandon kranti
परिवार
परिवार
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
फ़र्ज़ पर अधिकार तेरा,
फ़र्ज़ पर अधिकार तेरा,
Satish Srijan
बस तेरे हुस्न के चर्चे वो सुबो कार बहुत हैं ।
बस तेरे हुस्न के चर्चे वो सुबो कार बहुत हैं ।
Phool gufran
कुछ चंद लोंगो ने कहा है कि
कुछ चंद लोंगो ने कहा है कि
सुनील कुमार
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
gurudeenverma198
2661.*पूर्णिका*
2661.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
You're going to realize one day :
You're going to realize one day :
पूर्वार्थ
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ज्योति
राजनीतिकों में चिंता नहीं शेष
राजनीतिकों में चिंता नहीं शेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कि सब ठीक हो जायेगा
कि सब ठीक हो जायेगा
Vikram soni
💐💐रसबुद्धि:💐💐
💐💐रसबुद्धि:💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम्मीर देव चौहान
हम्मीर देव चौहान
Ajay Shekhavat
Hajipur
Hajipur
Hajipur
बेटीयां
बेटीयां
Aman Kumar Holy
राह तक रहे हैं नयना
राह तक रहे हैं नयना
Ashwani Kumar Jaiswal
किसी मुस्क़ान की ख़ातिर ज़माना भूल जाते हैं
किसी मुस्क़ान की ख़ातिर ज़माना भूल जाते हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
■ आज_की_बड़ी_उपलब्धि
■ आज_की_बड़ी_उपलब्धि
*Author प्रणय प्रभात*
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
डर एवं डगर
डर एवं डगर
Astuti Kumari
मधमक्खी
मधमक्खी
Dr Archana Gupta
फितरत को पहचान कर भी
फितरत को पहचान कर भी
Seema gupta,Alwar
विश्वास मिला जब जीवन से
विश्वास मिला जब जीवन से
TARAN VERMA
मंजिल
मंजिल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*दादा जी डगमग चलते हैं (बाल कविता)*
*दादा जी डगमग चलते हैं (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Next
Next
Rajan Sharma
Loading...