Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

राखी की यह डोर।

राखी की यह डोर।

बाँधा इसने भाई-बहन को
धरती प्यारी और गगन को,
चाँद – सितारे और बँधा है
ज्योति – कलश ले भोर।
राखी की यह डोर।

भाई-बहन का बंधन प्यारा
स्नेह-सुमंगल, सुखद सहारा,
केसर, चंदन, रोली दमके
कुमकुम है चहुँओर।
राखी की यह डोर।

बाँध रेशमी धागा कर में
हर्ष बहन ले आयी घर में ,
चहल-पहल, रौनक, रागों से
मन के आँगन शोर।
राखी की यह डोर।।

बहन सदा तू रहे सलामत
तुझे न शनि कर पाये आहत,
अश्रुनीर से कभी न भीगे
आँचल की सित कोर।
राखी की यह डोर।

अनिल मिश्र प्रहरी।

Language: Hindi
1 Like · 38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम की पेंगें बढ़ाती लड़की / मुसाफ़िर बैठा
प्रेम की पेंगें बढ़ाती लड़की / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
★मां का प्यार★
★मां का प्यार★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
पते की बात - दीपक नीलपदम्
पते की बात - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
राहें भी होगी यूं ही,
राहें भी होगी यूं ही,
Satish Srijan
यह तो होता है दौर जिंदगी का
यह तो होता है दौर जिंदगी का
gurudeenverma198
प्रार्थना
प्रार्थना
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
*राम मेरे तुम बन आओ*
*राम मेरे तुम बन आओ*
Poonam Matia
चिन्ता और चिता मे अंतर
चिन्ता और चिता मे अंतर
Ram Krishan Rastogi
तुम पर क्या लिखूँ ...
तुम पर क्या लिखूँ ...
Harminder Kaur
मनुष्य की पहचान अच्छी मिठी-मिठी बातों से नहीं , अच्छे कर्म स
मनुष्य की पहचान अच्छी मिठी-मिठी बातों से नहीं , अच्छे कर्म स
Raju Gajbhiye
बिजलियों का दौर
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल बदायूंनी
कौन है जिम्मेदार?
कौन है जिम्मेदार?
Pratibha Pandey
मेरी तकलीफ़ पे तुझको भी रोना चाहिए।
मेरी तकलीफ़ पे तुझको भी रोना चाहिए।
पूर्वार्थ
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
*वो जो दिल के पास है*
*वो जो दिल के पास है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
@ranjeetkrshukla
@ranjeetkrshukla
Ranjeet Kumar Shukla
3198.*पूर्णिका*
3198.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शहर में बिखरी है सनसनी सी ,
शहर में बिखरी है सनसनी सी ,
Manju sagar
कोशिश करना छोड़ो मत,
कोशिश करना छोड़ो मत,
Ranjeet kumar patre
।। जीवन प्रयोग मात्र ।।
।। जीवन प्रयोग मात्र ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जिनका हम जिक्र तक नहीं करते हैं
जिनका हम जिक्र तक नहीं करते हैं
ruby kumari
मतिभ्रष्ट
मतिभ्रष्ट
Shyam Sundar Subramanian
#तेजा_दशमी_की_बधाई
#तेजा_दशमी_की_बधाई
*Author प्रणय प्रभात*
Jin kandho par bachpan bita , us kandhe ka mol chukana hai,
Jin kandho par bachpan bita , us kandhe ka mol chukana hai,
Sakshi Tripathi
क्यों कहते हो प्रवाह नहीं है
क्यों कहते हो प्रवाह नहीं है
Suryakant Dwivedi
रात के अंधेरे में नसीब आजमाना ठीक नहीं है
रात के अंधेरे में नसीब आजमाना ठीक नहीं है
कवि दीपक बवेजा
लक्ष्य
लक्ष्य
Sanjay ' शून्य'
"वो"
Dr. Kishan tandon kranti
*दर्पण (बाल कविता)*
*दर्पण (बाल कविता)*
Ravi Prakash
अलविदा
अलविदा
Dr fauzia Naseem shad
Loading...