Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2016 · 1 min read

रहे याद रिश्ते बनाने से पहले

रहे याद रिश्ते बनाने से पहले
कि देना भी पड़ता है पाने से पहले

जरा झाँक लेना गिरेबान अपना
किसी पर भी उँगली उठाने से पहले

कहीं डर न जाना यहाँ देखकर गम
रुलाता है भगवन हँसाने से पहले

न अंजाम कुछ सोचते हैं कभी भी
दीवाने यहाँ दिल लगाने से पहले

अगर बात दिल की किसी से है कहनी
परख उनको लेना बताने से पहले

करो ‘अर्चना’ सैर व्यायाम योगा
सुबह की किरण में नहाने से पहले

डॉ अर्चना गुप्ता

7 Comments · 499 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
'अशांत' शेखर
सब सूना सा हो जाता है
सब सूना सा हो जाता है
Satish Srijan
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैने प्रेम,मौहब्बत,नफरत और अदावत की ग़ज़ल लिखी, कुछ आशार लिखे
मैने प्रेम,मौहब्बत,नफरत और अदावत की ग़ज़ल लिखी, कुछ आशार लिखे
Bodhisatva kastooriya
"कविता और प्रेम"
Dr. Kishan tandon kranti
खूबसूरत है किसी की कहानी का मुख्य किरदार होना
खूबसूरत है किसी की कहानी का मुख्य किरदार होना
पूर्वार्थ
कर्जा
कर्जा
RAKESH RAKESH
ऋतुराज बसंत
ऋतुराज बसंत
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
प्रेम
प्रेम
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
श्रीराम वन में
श्रीराम वन में
नवीन जोशी 'नवल'
जख्म भी रूठ गया है अबतो
जख्म भी रूठ गया है अबतो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
sushil sarna
गांव
गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
पंकज कुमार कर्ण
Jaruri to nhi , jo riste dil me ho ,
Jaruri to nhi , jo riste dil me ho ,
Sakshi Tripathi
■ आ चुका है वक़्त।
■ आ चुका है वक़्त।
*Author प्रणय प्रभात*
कभी जो रास्ते तलाशते थे घर की तरफ आने को, अब वही राहें घर से
कभी जो रास्ते तलाशते थे घर की तरफ आने को, अब वही राहें घर से
Manisha Manjari
आप सभी को महाशिवरात्रि की बहुत-बहुत हार्दिक बधाई..
आप सभी को महाशिवरात्रि की बहुत-बहुत हार्दिक बधाई..
आर.एस. 'प्रीतम'
रोजाना आता नई , खबरें ले अखबार (कुंडलिया)
रोजाना आता नई , खबरें ले अखबार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
आस लगाए बैठे हैं कि कब उम्मीद का दामन भर जाए, कहने को दुनिया
आस लगाए बैठे हैं कि कब उम्मीद का दामन भर जाए, कहने को दुनिया
Shashi kala vyas
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
Paras Nath Jha
आसान नहीं होता
आसान नहीं होता
डॉ० रोहित कौशिक
आपके अन्तर मन की चेतना अक्सर जागृत हो , आपसे , आपके वास्तविक
आपके अन्तर मन की चेतना अक्सर जागृत हो , आपसे , आपके वास्तविक
Seema Verma
"ईद-मिलन" हास्य रचना
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
महसूस कर रही हूँ बेरंग ख़ुद को मैं
महसूस कर रही हूँ बेरंग ख़ुद को मैं
Neelam Sharma
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
Slok maurya "umang"
अपना बिहार
अपना बिहार
AMRESH KUMAR VERMA
💐प्रेम कौतुक-277💐
💐प्रेम कौतुक-277💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
3001.*पूर्णिका*
3001.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिल का कोई
दिल का कोई
Dr fauzia Naseem shad
Loading...