Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2016 · 1 min read

रहते हो दिल के करीब ..रहते हो दिल के पास

रहते हो दिल के करीब
रहते हो दिल के पास
अजनबी सा लगने लगा हर शय
जब से तुम हो रूह के रेशे के पास
जानते हो …
इन हवाओ मे इन फिजाओंमे
इन दरख्तों मे इन घटाओ मे
इतनी खूबसूरती क्यूं है क्यूंकि……. ………….
तुम हो एक प्यारी सी आस
रहते हो दिल के करीब रहते हो दिल के पास

ये कल कल करती नदियॉ
ये उठती गिरती लहरे
ये चॉद ये सितारे ये सारे नजारे
बरबस ही अपनी ओर खीचते क्यूं है
क्यूंकि… देते हो मधुर एहसास
रहते हो दिल के करीब रहते हो दिल के पास हो

मगरूर घटाए भी टूटकर बिखर जाती है
बारिश की बूंद बनकर धरा को भिगो जाती है
जानते हो क्यूं …
कण कण मे है प्रेम का वास तुम हो मीठी प्यास
रहते हो दिल मे रहते हो दिल के पास ……
नीरा रानी

Language: Hindi
369 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from NIRA Rani
View all
You may also like:
अधि वर्ष
अधि वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
इंसान भीतर से यदि रिक्त हो
इंसान भीतर से यदि रिक्त हो
ruby kumari
आब त रावणक राज्य अछि  सबतरि ! गाम मे ,समाज मे ,देशक कोन - को
आब त रावणक राज्य अछि सबतरि ! गाम मे ,समाज मे ,देशक कोन - को
DrLakshman Jha Parimal
बचपन का प्रेम
बचपन का प्रेम
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
नारी जगत आधार....
नारी जगत आधार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
दुश्मन को दहला न सके जो              खून   नहीं    वह   पानी
दुश्मन को दहला न सके जो खून नहीं वह पानी
Anil Mishra Prahari
23/104.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/104.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जहां आपका सही और सटीक मूल्यांकन न हो वहां  पर आपको उपस्थित ह
जहां आपका सही और सटीक मूल्यांकन न हो वहां पर आपको उपस्थित ह
Rj Anand Prajapati
खत लिखा था पहली बार दे ना पाए कभी
खत लिखा था पहली बार दे ना पाए कभी
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मां बाप के प्यार जैसा  कहीं कुछ और नहीं,
मां बाप के प्यार जैसा कहीं कुछ और नहीं,
Satish Srijan
शकुनियों ने फैलाया अफवाहों का धुंध
शकुनियों ने फैलाया अफवाहों का धुंध
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रेम पत्र
प्रेम पत्र
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
इम्तिहान
इम्तिहान
AJAY AMITABH SUMAN
समझा दिया
समझा दिया
sushil sarna
भारत का संविधान
भारत का संविधान
Shekhar Chandra Mitra
करवाचौथ
करवाचौथ
Surinder blackpen
सहकारी युग ,हिंदी साप्ताहिक का 15 वाँ वर्ष { 1973 - 74 }*
सहकारी युग ,हिंदी साप्ताहिक का 15 वाँ वर्ष { 1973 - 74 }*
Ravi Prakash
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गणतंत्र
गणतंत्र
लक्ष्मी सिंह
बाल कविता: मछली
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
तनावमुक्त
तनावमुक्त
Kanchan Khanna
बम
बम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यह दुनिया भी बदल डालें
यह दुनिया भी बदल डालें
Dr fauzia Naseem shad
कविता -
कविता - "सर्दी की रातें"
Anand Sharma
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#गुस्ताख़ी_माफ़
#गुस्ताख़ी_माफ़
*Author प्रणय प्रभात*
डर से अपराधी नहीं,
डर से अपराधी नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
Kumar lalit
संदेशा
संदेशा
manisha
मां तुम बहुत याद आती हो
मां तुम बहुत याद आती हो
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...