Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2023 · 1 min read

*रहते परहित जो सदा, सौ-सौ उन्हें प्रणाम (कुंडलिया)*

रहते परहित जो सदा, सौ-सौ उन्हें प्रणाम (कुंडलिया)

रहते परहित जो सदा, सौ-सौ उन्हें प्रणाम
जग के हरना कष्ट सब, जिनके केवल काम
जिनके केवल काम, द्रवित दुख से हो जाते
स्वयं झेलकर कष्ट, अन्य को रहे बचाते
कहते रवि कविराय, भले पागल सब कहते
मानवता के अंश, सुरक्षित इनसे रहते

रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
"अंकों की भाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
3117.*पूर्णिका*
3117.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इन्द्रधनुष
इन्द्रधनुष
Dheerja Sharma
थोड़ी कोशिश,थोड़ी जरूरत
थोड़ी कोशिश,थोड़ी जरूरत
Vaishaligoel
खिलाडी श्री
खिलाडी श्री
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
मणिपुर की घटना ने शर्मसार कर दी सारी यादें
मणिपुर की घटना ने शर्मसार कर दी सारी यादें
Vicky Purohit
लिखने के आयाम बहुत हैं
लिखने के आयाम बहुत हैं
Shweta Soni
किताबें
किताबें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Mamta Rani
रिश्ता चाहे जो भी हो,
रिश्ता चाहे जो भी हो,
शेखर सिंह
जो ना कहता है
जो ना कहता है
Otteri Selvakumar
*अहंकार *
*अहंकार *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Jo mila  nahi  wo  bhi  theek  hai.., jo  hai  mil  gaya   w
Jo mila nahi wo bhi theek hai.., jo hai mil gaya w
Rekha Rajput
अपनी नज़र में खुद
अपनी नज़र में खुद
Dr fauzia Naseem shad
मीडिया पर व्यंग्य
मीडिया पर व्यंग्य
Mahender Singh
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
सत्य कुमार प्रेमी
काश लौट कर आए वो पुराने जमाने का समय ,
काश लौट कर आए वो पुराने जमाने का समय ,
Shashi kala vyas
चलो क्षण भर भुला जग को, हरी इस घास में बैठें।
चलो क्षण भर भुला जग को, हरी इस घास में बैठें।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मिट्टी का बदन हो गया है
मिट्टी का बदन हो गया है
Surinder blackpen
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
Sukoon
कभी आंख मारना कभी फ्लाइंग किस ,
कभी आंख मारना कभी फ्लाइंग किस ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
बाल कविता: मदारी का खेल
बाल कविता: मदारी का खेल
Rajesh Kumar Arjun
बढ़ती हुई समझ,
बढ़ती हुई समझ,
Shubham Pandey (S P)
कुछ तो होता है ना, जब प्यार होता है
कुछ तो होता है ना, जब प्यार होता है
Anil chobisa
करना केवल यह रहा , बाँटो खूब शराब(हास्य कुंडलिया)
करना केवल यह रहा , बाँटो खूब शराब(हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
मायका
मायका
Mukesh Kumar Sonkar
खेतों में हरियाली बसती
खेतों में हरियाली बसती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...