Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jan 2023 · 1 min read

रविश कुमार हूँ मैं

बिना चिल्लम-चिल्ली वाला समाचार हूं मैं
नमस्कार प्राइम टाइम पर रवीश कुमार हूं मैं,

अंधी – बहरी सियासत के कानों पर
लोकतंत्र की पुकार हूं मैं, रवीश कुमार हूँ मैं,

सुबह से शाम तक स्टूडियो में भौंकने वाले
एकरों के लिए रोजगार हूं मैं, रवीश कुमार हूं मैं,

कभी चिट्ठी छांटने वाला, कभी खबर लिखने वाला,
कभी प्राइमटाइम करने वाला,कामगार हूं मैं, रवीश कुमार हूं मैं,

सच को सच और झूठ को झूठ कहने वाला
अदना सा एक पत्रकार हूं मैं, रवीश कुमार हूं मैं,

आपसी सौहार्द की दीवार जर्जर ही सही
पंडित,मौलवी,कभी सरदार हूं मैं,रवीश कुमार हूं मैं,

कहीं फंदे पर झूलता किसान,कहीं ट्रेनों में धक्के खाता युवा,
कहीं शासन की लाठियां खाता बेरोजगार हूं मैं, रवीश कुमार हूं मैं,

जनतंत्र की जर्जर इमारत की आखिरी दीवार हूं मैं
पर्दे के पीछे की आवाज रवीश कुमार हूं मैं,

न चटपटी खबरें, न दुनिया की बहस, न शानदार ग्राफिक्स
ब्लैक स्क्रीन के साथ गुलजार हूं मैं, रवीश कुमार हूं मैं,

देश और लोकहित के लिए लड़ता हुआ एक सिपहसालार हूं मैं
कहीं अजीत कहीं पुण्य प्रसून कहीं अभिसार हूं मैं,रवीश कुमार हूं मैं,

न आर-पार, न हल्ला बोल, न पूछता है भारत
ज़ीरो TRP वाला एक पत्रकार हूं मैं, रवीश कुमार हूं मैं,
©Sandeep Albela

1 Like · 265 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्री वेडिंग की आँधी
प्री वेडिंग की आँधी
Anil chobisa
ऐसे ही थोड़ी किसी का नाम हुआ होगा।
ऐसे ही थोड़ी किसी का नाम हुआ होगा।
Praveen Bhardwaj
हम जिएँ न जिएँ दोस्त
हम जिएँ न जिएँ दोस्त
Vivek Mishra
काश तुम मेरे पास होते
काश तुम मेरे पास होते
Neeraj Mishra " नीर "
**मातृभूमि**
**मातृभूमि**
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
परिवार
परिवार
डॉ० रोहित कौशिक
बदला है
बदला है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
अंधेरे में
अंधेरे में
Santosh Shrivastava
दिल बयानी में हर शख्स अकेला नज़र आता है,
दिल बयानी में हर शख्स अकेला नज़र आता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
Sanjay ' शून्य'
हे कहाँ मुश्किलें खुद की
हे कहाँ मुश्किलें खुद की
Swami Ganganiya
Go to bed smarter than when you woke up — Charlie Munger
Go to bed smarter than when you woke up — Charlie Munger
पूर्वार्थ
जब किनारे दिखाई देते हैं !
जब किनारे दिखाई देते हैं !
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
Ranjeet kumar patre
*राम तुम्हारे शुभागमन से, चारों ओर वसंत है (गीत)*
*राम तुम्हारे शुभागमन से, चारों ओर वसंत है (गीत)*
Ravi Prakash
🕉️🌸आम का पेड़🌸🕉️
🕉️🌸आम का पेड़🌸🕉️
Radhakishan R. Mundhra
अपनी पहचान को
अपनी पहचान को
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr. Rajeev Jain
माँ दे - दे वरदान ।
माँ दे - दे वरदान ।
Anil Mishra Prahari
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
Rohit yadav
मैं उसकी देखभाल एक जुनूं से करती हूँ..
मैं उसकी देखभाल एक जुनूं से करती हूँ..
Shweta Soni
सदा सदाबहार हिंदी
सदा सदाबहार हिंदी
goutam shaw
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
सिद्धार्थ गोरखपुरी
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
Ajay Kumar Vimal
मन चाहे कुछ कहना .. .. !!
मन चाहे कुछ कहना .. .. !!
Kanchan Khanna
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
Shekhar Chandra Mitra
विषय :- रक्त रंजित मानवीयता रस-वीभत्स रस विधा-मधुमालती छंद आधारित गीत मापनी-2212 , 2212
विषय :- रक्त रंजित मानवीयता रस-वीभत्स रस विधा-मधुमालती छंद आधारित गीत मापनी-2212 , 2212
Neelam Sharma
भारत मां की पुकार
भारत मां की पुकार
Shriyansh Gupta
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Loading...