Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2023 · 1 min read

*रद्दी अगले दिन हुआ, मूल्यवान अखबार (कुंडलिया)*

रद्दी अगले दिन हुआ, मूल्यवान अखबार (कुंडलिया)

रद्दी अगले दिन हुआ, मूल्यवान अखबार
सुबह-सुबह इतरा रहा, हर दफ्तर घर-द्वार
हर दफ्तर घर-द्वार, सुबह जो सबका प्यारा
खोता निज उजियार, शाम तक ढलता सारा
कहते रवि कविराय, पलटती सबकी गद्दी
जारी काल-प्रवाह, समय करता सब रद्दी

रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
*लोकमैथिली_हाइकु*
*लोकमैथिली_हाइकु*
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"आशिकी ने"
Dr. Kishan tandon kranti
*जनहित में विद्यालय जिनकी, रचना उन्हें प्रणाम है (गीत)*
*जनहित में विद्यालय जिनकी, रचना उन्हें प्रणाम है (गीत)*
Ravi Prakash
💐अज्ञात के प्रति-41💐
💐अज्ञात के प्रति-41💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जब घर से दूर गया था,
जब घर से दूर गया था,
भवेश
कभी कभी छोटी सी बात  हालात मुश्किल लगती है.....
कभी कभी छोटी सी बात हालात मुश्किल लगती है.....
Shashi kala vyas
आँखें
आँखें
लक्ष्मी सिंह
साँवरिया तुम कब आओगे
साँवरिया तुम कब आओगे
Kavita Chouhan
It’s all be worthless if you lose your people on the way..
It’s all be worthless if you lose your people on the way..
पूर्वार्थ
बसंती हवा
बसंती हवा
Arvina
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
shabina. Naaz
दोस्ती एक पवित्र बंधन
दोस्ती एक पवित्र बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
जज़्बा क़ायम जिंदगी में
जज़्बा क़ायम जिंदगी में
Satish Srijan
#देश_उठाए_मांग
#देश_उठाए_मांग
*Author प्रणय प्रभात*
उम्मीद - ए - आसमां से ख़त आने का इंतजार हमें भी है,
उम्मीद - ए - आसमां से ख़त आने का इंतजार हमें भी है,
manjula chauhan
* बिखर रही है चान्दनी *
* बिखर रही है चान्दनी *
surenderpal vaidya
दुनिया बदल सकते थे जो
दुनिया बदल सकते थे जो
Shekhar Chandra Mitra
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
Vishal babu (vishu)
रिश्तो को कायम रखना चाहते हो
रिश्तो को कायम रखना चाहते हो
Harminder Kaur
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
Neelam Sharma
कुंडलिया छंद की विकास यात्रा
कुंडलिया छंद की विकास यात्रा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सहित्य में हमे गहरी रुचि है।
सहित्य में हमे गहरी रुचि है।
Ekta chitrangini
वो,
वो,
हिमांशु Kulshrestha
शराब हो या इश्क़ हो बहकाना काम है
शराब हो या इश्क़ हो बहकाना काम है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विषय सूची
विषय सूची
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
"तुम्हारे शिकवों का अंत चाहता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
किसी को जिंदगी लिखने में स्याही ना लगी
किसी को जिंदगी लिखने में स्याही ना लगी
कवि दीपक बवेजा
"सोज़-ए-क़ल्ब"- ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तारीख
तारीख
Dr. Seema Varma
Loading...