Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

रचना प्रेमी, रचनाकार

रचना प्रेमी, रचनाकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे छत्तीसगढ़ रायपुर आरंग अमोदी
+++++——-++++++++++++

नींद बैरी ह परत नई हे
काकर करत हे अगोरा ।
रात दिन नजर झुलत हे
टुरी रचना अउ मंटोरा।।

लपक लपक आवत रइथे
कलम धराए रचना।
लेखनी सुघ्घर बनय नहीं
त आथे टुरी मंटोरा।।

कक्का लिखत रइबे तभो ले
बब्बा हा छपा जाथे।
झुमर झुमर रइथव फेर मोर
नींद घलो भगा जाथे।।

ए दोनो टुरी के चक्कर मा
मैं पिसावत रइथव।
तेकरे सेती संगवारी तुमन
कवि बन जौ कइथव।।

बड़ मन मोहनी दोनों टुरी
कभु हंसाही कभी रोवाही
नाचत कुदत कोनो बेरा में
सुते नींद मां घलो‌ उठाही।।

मन गदगद हो जाथे मोर
ए दोनो के राहत ले।
कसम घलो खागे हव मैं
नी छोड़व जी राहत ले।।

=================

Language: Hindi
76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भाव - श्रृँखला
भाव - श्रृँखला
Shyam Sundar Subramanian
साथ मेरे था
साथ मेरे था
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
प्रेम भाव रक्षित रखो,कोई भी हो तव धर्म।
प्रेम भाव रक्षित रखो,कोई भी हो तव धर्म।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कभी-कभी कोई प्रेम बंधन ऐसा होता है जिससे व्यक्ति सामाजिक तौर
कभी-कभी कोई प्रेम बंधन ऐसा होता है जिससे व्यक्ति सामाजिक तौर
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
पहला प्यार नहीं बदला...!!
पहला प्यार नहीं बदला...!!
Ravi Betulwala
आओ बुद्ध की ओर चलें
आओ बुद्ध की ओर चलें
Shekhar Chandra Mitra
बचपन
बचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
हमारे जीवन की सभी समस्याओं की वजह सिर्फ दो शब्द है:—
हमारे जीवन की सभी समस्याओं की वजह सिर्फ दो शब्द है:—
पूर्वार्थ
सब तमाशा है ।
सब तमाशा है ।
Neelam Sharma
मेरी शक्ति
मेरी शक्ति
Dr.Priya Soni Khare
दीवाली
दीवाली
Nitu Sah
दोस्ती
दोस्ती
Adha Deshwal
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
Rj Anand Prajapati
Every moment has its own saga
Every moment has its own saga
कुमार
इस धरती पर
इस धरती पर
surenderpal vaidya
मोर
मोर
Manu Vashistha
कदम बढ़ाकर मुड़ना भी आसान कहां था।
कदम बढ़ाकर मुड़ना भी आसान कहां था।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
करो खुद पर यकीं
करो खुद पर यकीं
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
*बारिश का मौसम है प्यारा (बाल कविता)*
*बारिश का मौसम है प्यारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
*** कुछ पल अपनों के साथ....! ***
*** कुछ पल अपनों के साथ....! ***
VEDANTA PATEL
अगर आप अपनी आवश्यकताओं को सीमित कर देते हैं,तो आप सम्पन्न है
अगर आप अपनी आवश्यकताओं को सीमित कर देते हैं,तो आप सम्पन्न है
Paras Nath Jha
चोट ना पहुँचे अधिक,  जो वाक़ि'आ हो
चोट ना पहुँचे अधिक, जो वाक़ि'आ हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सर्दियों का मौसम - खुशगवार नहीं है
सर्दियों का मौसम - खुशगवार नहीं है
Atul "Krishn"
दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏💐
दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏💐
Monika Verma
ध्यान एकत्र
ध्यान एकत्र
शेखर सिंह
चाँद
चाँद
लक्ष्मी सिंह
Loading...