Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2017 · 1 min read

रखो कर्म में आस्था

रखो कर्म में आस्था

(आ० कवि श्री दीपक शुक्ला जी
की चार पंक्तियाँ सम्मिलित हैं)

हम हमारे ही हाथों ठगाते रहे !
हम अपने ही मन का गाते रहे !
हमें कर्म के मर्म का ज्ञान न था,,
हम अपने भाग्य पर इतराते रहे !

भाग्य को ही सदा गुनगुनाते रहे !
भाग्य पर कर भरोसा मुस्काते रहे !
कर्म की कीमत का भान न था,,
बिन साधे हम तो तीर चलाते रहे !!

सुख – चैन की रोटी तो खाते रहे !
बाप का माल यारों में लुटाते रहे !
जिंदगी को मौज-मस्ती भर समझा,,
बिछौने पर आराम फरमाते रहे !!

हसरतों को गले से लगाते रहे !
हम नये-नये सपने सजाते रहे !
कर्म में न दिखाई कभी आस्था,,
अब इस उम्र में आँसू बहाते रहे !!

==============
दिनेश एल० “जैहिंद”
25. 03. 2017

Language: Hindi
174 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वाह भाई वाह
वाह भाई वाह
gurudeenverma198
कहाँ मिलेगी जिंदगी  ,
कहाँ मिलेगी जिंदगी ,
sushil sarna
मझधार
मझधार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कामना के प्रिज़्म
कामना के प्रिज़्म
Davina Amar Thakral
जो ले जाये उस पार दिल में ऐसी तमन्ना न रख
जो ले जाये उस पार दिल में ऐसी तमन्ना न रख
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कामयाबी का
कामयाबी का
Dr fauzia Naseem shad
"रचो ऐसा इतिहास"
Dr. Kishan tandon kranti
*आओ देखो नव-भारत में, भारत की भाषा बोल रही (राधेश्यामी छंद)*
*आओ देखो नव-भारत में, भारत की भाषा बोल रही (राधेश्यामी छंद)*
Ravi Prakash
हाँ ये सच है
हाँ ये सच है
Saraswati Bajpai
आपका बुरा वक्त
आपका बुरा वक्त
Paras Nath Jha
पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।
पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।
Dr. Narendra Valmiki
3646.💐 *पूर्णिका* 💐
3646.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
"शिलालेख "
Slok maurya "umang"
दो अनजाने मिलते हैं, संग-संग मिलकर चलते हैं
दो अनजाने मिलते हैं, संग-संग मिलकर चलते हैं
Rituraj shivem verma
संस्कार में झुक जाऊं
संस्कार में झुक जाऊं
Ranjeet kumar patre
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
Bodhisatva kastooriya
बहुत झुका हूँ मैं
बहुत झुका हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
" शिक्षक "
Pushpraj Anant
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*प्रणय प्रभात*
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
Harminder Kaur
शक्ति शील सौंदर्य से, मन हरते श्री राम।
शक्ति शील सौंदर्य से, मन हरते श्री राम।
आर.एस. 'प्रीतम'
बहुत याद आता है
बहुत याद आता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
क्यूँ भागती हैं औरतें
क्यूँ भागती हैं औरतें
Pratibha Pandey
संस्कृति संस्कार
संस्कृति संस्कार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुझसे है मुझे प्यार ये बतला रहा हूॅं मैं।
तुझसे है मुझे प्यार ये बतला रहा हूॅं मैं।
सत्य कुमार प्रेमी
हैवानियत
हैवानियत
Shekhar Chandra Mitra
तू तो होगी नहीं....!!!
तू तो होगी नहीं....!!!
Kanchan Khanna
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
ruby kumari
चंचल मन***चंचल मन***
चंचल मन***चंचल मन***
Dinesh Kumar Gangwar
Loading...