Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2024 · 1 min read

रखी हुई है अनमोल निशानी, इक सुन्दर दुनिया की,

रखी हुई है अनमोल निशानी, इक सुन्दर दुनिया की,
एक ‘कुर्सी’ बाबूजी की, एक ‘सन्दुक’ प्यारी मां की

©️ डॉ. शशांक शर्मा “रईस”

14 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिन्दी माई
हिन्दी माई
Sadanand Kumar
वार
वार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Not a Choice, But a Struggle
Not a Choice, But a Struggle
पूर्वार्थ
सिकन्दर बन कर क्या करना
सिकन्दर बन कर क्या करना
Satish Srijan
*गठरी बाँध मुसाफिर तेरी, मंजिल कब आ जाए  ( गीत )*
*गठरी बाँध मुसाफिर तेरी, मंजिल कब आ जाए ( गीत )*
Ravi Prakash
केवल मन में इच्छा रखने से जीवन में कोई बदलाव आने से रहा।
केवल मन में इच्छा रखने से जीवन में कोई बदलाव आने से रहा।
Paras Nath Jha
मेरी तकलीफ़
मेरी तकलीफ़
Dr fauzia Naseem shad
मेहनत करो और खुश रहो
मेहनत करो और खुश रहो
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*खामोशी अब लब्ज़ चाहती है*
*खामोशी अब लब्ज़ चाहती है*
Shashi kala vyas
2318.पूर्णिका
2318.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हँसी!
हँसी!
कविता झा ‘गीत’
"स्वार्थी रिश्ते"
Ekta chitrangini
अगर कभी किस्मत से किसी रास्ते पर टकराएंगे
अगर कभी किस्मत से किसी रास्ते पर टकराएंगे
शेखर सिंह
जाने के बाद .....लघु रचना
जाने के बाद .....लघु रचना
sushil sarna
हिंदीग़ज़ल की गटर-गंगा *रमेशराज
हिंदीग़ज़ल की गटर-गंगा *रमेशराज
कवि रमेशराज
मैं रंग बन के बहारों में बिखर जाऊंगी
मैं रंग बन के बहारों में बिखर जाऊंगी
Shweta Soni
"मतलब समझाना
*प्रणय प्रभात*
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आबाद मुझको तुम आज देखकर
आबाद मुझको तुम आज देखकर
gurudeenverma198
जिस्म से रूह को लेने,
जिस्म से रूह को लेने,
Pramila sultan
जो थक बैठते नहीं है राहों में
जो थक बैठते नहीं है राहों में
REVATI RAMAN PANDEY
यूँ  भी  हल्के  हों  मियाँ बोझ हमारे  दिल के
यूँ भी हल्के हों मियाँ बोझ हमारे दिल के
Sarfaraz Ahmed Aasee
महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब
महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब
Suryakant Dwivedi
चाँदनी रातों में बहार-ए-चमन,
चाँदनी रातों में बहार-ए-चमन,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
Basant Bhagawan Roy
ज़िंदगी का दस्तूर
ज़िंदगी का दस्तूर
Shyam Sundar Subramanian
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिन में रात
दिन में रात
MSW Sunil SainiCENA
Loading...