Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

रखिए गीला तौलिया, मुखमंडल के पास (कुंडलिया)

रखिए गीला तौलिया, मुखमंडल के पास (कुंडलिया)
*********************************
रखिए गीला तौलिया , मुखमंडल के पास
धुऑं न भीतर जा सके, पल-पल आए श्वास
पल-पल आए श्वास, आग से बचना सीखो
दम घुटने से मौत , मौत से बचते दीखो
कहते रवि कविराय ,परिस्थिति सदा परखिए
काबू में हो होश , धैर्य को मन में रखिए
————————————————–
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99 97 61 545 1

156 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
Ravikesh Jha
سیکھ لو
سیکھ لو
Ahtesham Ahmad
कौशल
कौशल
Dinesh Kumar Gangwar
मेरी जिंदगी
मेरी जिंदगी
ओनिका सेतिया 'अनु '
23/31.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/31.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आने जाने का
आने जाने का
Dr fauzia Naseem shad
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कल आज और कल
कल आज और कल
Omee Bhargava
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2023
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2023
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ek abodh balak
ek abodh balak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*आइसक्रीम (बाल कविता)*
*आइसक्रीम (बाल कविता)*
Ravi Prakash
राहें भी होगी यूं ही,
राहें भी होगी यूं ही,
Satish Srijan
बहुत मशरूफ जमाना है
बहुत मशरूफ जमाना है
नूरफातिमा खातून नूरी
कीलों की क्या औकात ?
कीलों की क्या औकात ?
Anand Sharma
आस्था स्वयं के विनाश का कारण होती है
आस्था स्वयं के विनाश का कारण होती है
प्रेमदास वसु सुरेखा
शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत,
शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत,
Jitendra Chhonkar
युवा है हम
युवा है हम
Pratibha Pandey
सात जन्मों तक
सात जन्मों तक
Dr. Kishan tandon kranti
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
तारीफ....... तुम्हारी
तारीफ....... तुम्हारी
Neeraj Agarwal
लेंस प्रत्योपण भी सिर्फ़
लेंस प्रत्योपण भी सिर्फ़
*Author प्रणय प्रभात*
राम का आधुनिक वनवास
राम का आधुनिक वनवास
Harinarayan Tanha
यह कलयुग है
यह कलयुग है
gurudeenverma198
अहसास
अहसास
Dr Parveen Thakur
नवयौवना
नवयौवना
लक्ष्मी सिंह
हद्द - ए - आसमाँ की न पूछा करों,
हद्द - ए - आसमाँ की न पूछा करों,
manjula chauhan
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
"आए हैं ऋतुराज"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ज़माने की निगाहों से कैसे तुझपे एतबार करु।
ज़माने की निगाहों से कैसे तुझपे एतबार करु।
Phool gufran
Loading...