Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2023 · 1 min read

रंगीला बचपन

रंगीला बचपन
“””””””””””””
रंग-रंगीला बचपन हमारा
कितना भोला और प्यारा।
बरसता सब तरफ से बस प्यार ही प्यार
पापा-मम्मी और दादा-दादी का दुलार।
पहुंचे जब कभी हम ननिहाल
मत पूछो भाई तब की हाल।
मामा-मामी और नाना-नानी
खूब खातिरदारी करते सभी।
रंग-रंगीला बचपन हमारा
कितना भोला और प्यारा।
न आज की चिंता, न कल की
डर न फिकर किसी प्रकार की।
कितना आया, कितना गया
कौन आया और कौन गया ?
मतलब न रहता किसी बात की
मतलब रहता भरपेट खाने की।
खेलना-कूदना और मस्त रहना
मन लगे तो कुछ देर पढ़ लेना।
रंग-रंगीला बचपन हमारा
कितना भोला और प्यारा।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जन्म गाथा
जन्म गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
गिलहरी
गिलहरी
Satish Srijan
"एक उम्र के बाद"
Dr. Kishan tandon kranti
कोई फैसला खुद के लिए, खुद से तो करना होगा,
कोई फैसला खुद के लिए, खुद से तो करना होगा,
Anand Kumar
चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड
चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
क्या यही संसार होगा...
क्या यही संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
Dr. Narendra Valmiki
13, हिन्दी- दिवस
13, हिन्दी- दिवस
Dr Shweta sood
दिल में दबे कुछ एहसास है....
दिल में दबे कुछ एहसास है....
Harminder Kaur
बेपनाह थी मोहब्बत, गर मुकाम मिल जाते
बेपनाह थी मोहब्बत, गर मुकाम मिल जाते
Aditya Prakash
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
नूरफातिमा खातून नूरी
Tumhari khubsurat akho ne ham par kya asar kiya,
Tumhari khubsurat akho ne ham par kya asar kiya,
Sakshi Tripathi
गुफ्तगू
गुफ्तगू
Naushaba Suriya
अंधकार जो छंट गया
अंधकार जो छंट गया
Mahender Singh
*डॉक्टर किशोरी लाल: एक मुलाकात*
*डॉक्टर किशोरी लाल: एक मुलाकात*
Ravi Prakash
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
Rituraj shivem verma
#लघुकथा / #विरक्त
#लघुकथा / #विरक्त
*Author प्रणय प्रभात*
शुक्र मनाओ आप
शुक्र मनाओ आप
शेखर सिंह
गई नहीं तेरी याद, दिल से अभी तक
गई नहीं तेरी याद, दिल से अभी तक
gurudeenverma198
जालिमों तुम खोप्ते रहो सीने में खंजर
जालिमों तुम खोप्ते रहो सीने में खंजर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सच तो हम सभी होते हैं।
सच तो हम सभी होते हैं।
Neeraj Agarwal
विचार
विचार
Jyoti Khari
I love you
I love you
Otteri Selvakumar
भगतसिंह ने कहा था
भगतसिंह ने कहा था
Shekhar Chandra Mitra
कोई कितना
कोई कितना
Dr fauzia Naseem shad
मनका छंद ....
मनका छंद ....
sushil sarna
3317.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3317.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
गीत
गीत
Pankaj Bindas
"बेखुदी "
Pushpraj Anant
Loading...