Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Apr 2023 · 1 min read

रंगरेज कहां है

ऐसे रंग कहाँ मिलते हैं,
लेकर चल वो देश जहाँ है ?
जिससे तूने पंखे रगायें
तितली वो रंगरेज कहाँ है ?

जिसने स्याही की चादर पर जुगनू से बूटे रक्खे हैं।
धूसर होते नेत्रपटों पर जिसने इंद्रधनुष लिक्खे हैं
मैं भी कोई जुगत लगाकर उसके ही दर पर जाऊँगी।
मन के कोरे पट पर अब मैं उससे ही रंग चढ़वाऊंगी।

जिसको सूरज ढूँढ रहा है
यहाँ वहाँ अनिमेष कहाँ है ?
जिससे तूने पंखे रगायें
तितली वो रंगरेज कहाँ है ?

उसका पता बता दो यदि तुम तुम्हें सदा आभार रहेगा।
वर्णमयी तेरे पंखों को वर्णहीन का प्यार रहेगा।
मैं ईश्वर की नीरस रचना, तुमको अपना गुरु कहूँगी।
उससे मुझको मिलवादो यदि, सदा तुम्हारी ऋणी रहूँगी।
ढूँढ चहुंदिशा हार गई हूँ,
कुछ तो दे दो भेद कहाँ है ?
जिससे तूने पंखे रगायें
तितली वो रंगरेज कहाँ है ?
© शिवा अवस्थी

Language: Hindi
2 Likes · 412 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चंदा का अर्थशास्त्र
चंदा का अर्थशास्त्र
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भोर समय में
भोर समय में
surenderpal vaidya
उन्हें क्या सज़ा मिली है, जो गुनाह कर रहे हैं
उन्हें क्या सज़ा मिली है, जो गुनाह कर रहे हैं
Shweta Soni
“ बधाई आ शुभकामना “
“ बधाई आ शुभकामना “
DrLakshman Jha Parimal
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
Keshav kishor Kumar
"आइडिया"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल  धड़कने लगा जब तुम्हारे लिए।
दिल धड़कने लगा जब तुम्हारे लिए।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
हाइकु
हाइकु
अशोक कुमार ढोरिया
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
ruby kumari
कलियुग में सतयुगी वचन लगभग अप्रासंगिक होते हैं।
कलियुग में सतयुगी वचन लगभग अप्रासंगिक होते हैं।
*Author प्रणय प्रभात*
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गहरा है रिश्ता
गहरा है रिश्ता
Surinder blackpen
दोहे ( मजदूर दिवस )
दोहे ( मजदूर दिवस )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नदिया के पार (सिनेमा) / MUSAFIR BAITHA
नदिया के पार (सिनेमा) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
Harminder Kaur
**गैरों के दिल में भी थोड़ा प्यार देना**
**गैरों के दिल में भी थोड़ा प्यार देना**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कन्या
कन्या
Bodhisatva kastooriya
*आस टूट गयी और दिल बिखर गया*
*आस टूट गयी और दिल बिखर गया*
sudhir kumar
2771. *पूर्णिका*
2771. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज़माने की नजर से।
ज़माने की नजर से।
Taj Mohammad
उत्कर्ष
उत्कर्ष
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
अंतहीन
अंतहीन
Dr. Rajeev Jain
// दोहा पहेली //
// दोहा पहेली //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एहसास
एहसास
Dr fauzia Naseem shad
पातुक
पातुक
शांतिलाल सोनी
हर एक चेहरा निहारता
हर एक चेहरा निहारता
goutam shaw
ख़यालों के परिंदे
ख़यालों के परिंदे
Anis Shah
भारत रत्न श्री नानाजी देशमुख (संस्मरण)
भारत रत्न श्री नानाजी देशमुख (संस्मरण)
Ravi Prakash
आंगन आंगन पीर है, आंखन आंखन नीर।
आंगन आंगन पीर है, आंखन आंखन नीर।
Suryakant Dwivedi
"Battling Inner Demons"
Manisha Manjari
Loading...