Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Mar 2023 · 2 min read

* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *

* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *

#justareminderekabodhbalak

मेरी उमर के नौ जवानों ने देखी है
तस्वीर बदलती पल पल भारत की
सीना तान ऊंचा भाल नजरें लक्ष्य पर
अविचलित दूरदृष्टि सधे कदम से
विकसित होती ये दुनिया
मेरी उमर के नौ जवानों ने देखी है
झुकती हुई वो दुनिया जो कभी
दिखाती थी आन्खें हमको डराती थी
अपने बाहुबल से हथियारों के बल से
बदलती तस्वीर इस दुनिया की
मेरी उमर के नौ जवानों ने देखी है
विज्ञान की होती बेश्कीमती खोजें
आकाश में आदमी की उडान
धरती से चांद, चांद से मंगल, मंगल से शनि
फिर शनि से सूर्य तक की बैखाफ़ परवाज़

मेरी उमर के नौ जवानों ने देखा है

बेसिक लेन्ड लाइन फोन से

अल्ट्रा स्मार्ट फोन का पदार्पण

मेरी उमर के नौ जवानों ने देखी है

चिकित्सा विज्ञान में अभूतपूर्ण तरक्की

लोहे के कुल्हे लोहे के घुटने और

कृत्रिम हृदय व अन्य मूलांग लगते

रोबोट सर्जरी लोगों द्वारा किये जा रहे

स्वेच्छिक मन से इच्छाओं से अंग दान

बचाते हुए जीवन को , मृत्युपरांत भी

मेरी उमर के नौ जवानों ने देखी है

भीषण से भीषण बीमारियां चेचक प्लेग

और कोविद जैसे मानव भक्खशी

मेरी उमर के नौ जवानों ने देखी है

प्राकृतिक आपदायें उनसे लड़ते झूझते

असहाय मानव बिलखते बच्चे, पिघलते भू खण्ड

मेरी उमर के नौ जवानों ने देखी है

भयंकर से भयंकर विनाश लीला

और उनसे सीखा है फिर से जीत जाना

न मानी हार न टूटना भले ही मर जाना

लड़ते लड़ते शहीद हो जाना, तब जाकर मिली है

ये विकसित दुनिया मेरे बच्चों तुमको

हम आज भी लड रहे हैं और पहले भी लड रहे थे

और आगे भी लड़ते रहंगे कब् सीखा हमने

हार जाना मेरी उमर के नौ जवानों ने सीखा है

अपनी कौम को देकर जाना

एक सशक्त मजबूत और जिन्दा दिल जोश

समाज, विश्व और आनन्द से मुस्कुराना

हमको आशा है विश्वास भी है ये तुम कभी न भूल जाना

304 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
आराम का हराम होना जरूरी है
आराम का हराम होना जरूरी है
हरवंश हृदय
जिंदगी का सवाल आया है।
जिंदगी का सवाल आया है।
Dr fauzia Naseem shad
बजट
बजट
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आज कल लोगों के दिल
आज कल लोगों के दिल
Satish Srijan
मैं चांद को पाने का सपना सजाता हूं।
मैं चांद को पाने का सपना सजाता हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
मेरे नयनों में जल है।
मेरे नयनों में जल है।
Kumar Kalhans
चाय की चुस्की लेते ही कुछ देर तक ऊर्जा शक्ति दे जाती है फिर
चाय की चुस्की लेते ही कुछ देर तक ऊर्जा शक्ति दे जाती है फिर
Shashi kala vyas
Intakam hum bhi le sakte hai tujhse,
Intakam hum bhi le sakte hai tujhse,
Sakshi Tripathi
"व्यर्थ सलाह "
Yogendra Chaturwedi
प्रेम
प्रेम
Dr. Shailendra Kumar Gupta
कवि को क्या लेना देना है !
कवि को क्या लेना देना है !
Ramswaroop Dinkar
मेनाद
मेनाद
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
माँ शारदे
माँ शारदे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सकारात्मक पुष्टि
सकारात्मक पुष्टि
पूर्वार्थ
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
इंसान बनने के लिए
इंसान बनने के लिए
Mamta Singh Devaa
गुरु दक्षिणा
गुरु दक्षिणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
***
*** " नाविक ले पतवार....! " ***
VEDANTA PATEL
'व्यथित मानवता'
'व्यथित मानवता'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*एक्सपायरी डेट ढूँढते रह जाओगे (हास्य व्यंग्य)*
*एक्सपायरी डेट ढूँढते रह जाओगे (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
Umender kumar
भ्रात प्रेम का रूप है,
भ्रात प्रेम का रूप है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
मन की किताब
मन की किताब
Neeraj Agarwal
2364.पूर्णिका
2364.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मैं हैरतभरी नजरों से उनको देखती हूँ
मैं हैरतभरी नजरों से उनको देखती हूँ
ruby kumari
सबसे ऊंचा हिन्द देश का
सबसे ऊंचा हिन्द देश का
surenderpal vaidya
■ ऐसा लग रहा है मानो पहली बार हो रहा है चुनाव।
■ ऐसा लग रहा है मानो पहली बार हो रहा है चुनाव।
*Author प्रणय प्रभात*
💐अज्ञात के प्रति-90💐
💐अज्ञात के प्रति-90💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
جستجو ءے عیش
جستجو ءے عیش
Ahtesham Ahmad
Loading...