Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

*यौगिक क्रिया सा ये कवि दल*

डॉ अरूण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक_ अरूण अतृप्त

शीर्षक _ यौगिक क्रिया सा ये कवि दल

जीने को सभी जी लेते हैं
अपनी अपनी जिंदगी का अंश यहां।
कोई खाते पीते चला गया।
कोई रोते रोते सिमट गया।
किसी की भूख भी मिटती नहीं।
कोई असमंजस से बेकरार ।
कोई अति ज्ञान का जानकर।
प्रभु श्री की इस दुनियां में भाई ।
कैसे कहूं अदभुत क्षमता के कलमकार।
कोई छंद विधान से प्रेरित है।
कोई दोहे रचता सभी प्रकार ।
कोई काव्य मंजूषा में उलझा।
कोई टिप्पणी लिख रहा बेशुमार।
साहित्य सृजन हैं ये मतवाला।
मन आत्मा को शान्ति देने वाला।
कोई दिन भर उलझा लेखन में।
कविता संग्रह के प्रति समर्पित हो।
कोई समारोह में करता ट्रॉफी का अंगीकार।
कोई अंगवस्त्र से आभुषित संस्तृप्त हो जाता है।
कोई टोपी पहन कर ही थिरक रहा, और मुस्काता है
कोई कोई तो अदभुत प्रकृति में ही सिमट गया।
कोई समर्पित लेखन को आलेखों की करता है बात।
कोई यात्रा कर कर न थका दे दे संस्मरण अखबारों में।
देखो भाईयो तुम सा कवि
इस सदी में अब तो न जन्मेगा।
आने वाली पीढ़ी लाखों सालों तक
संभवता: इस पीढ़ी के फल,
अगले शत शह सालों तक चूसेगा।
जीने को सभी जी लेते हैं
अपनी अपनी जिंदगी का अंश यहां।
कोई खाते पीते चला गया।
कोई रोते रोते सिमट गया।

Language: Hindi
127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
अगर आप हमारी मोहब्बत की कीमत लगाने जाएंगे,
अगर आप हमारी मोहब्बत की कीमत लगाने जाएंगे,
Kanchan Alok Malu
चाहे तुम
चाहे तुम
Shweta Soni
"लघु कृषक की व्यथा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"प्यार की कहानी "
Pushpraj Anant
■ सियासत के बूचड़खाने में...।।
■ सियासत के बूचड़खाने में...।।
*प्रणय प्रभात*
अनोखे ही साज़ बजते है.!
अनोखे ही साज़ बजते है.!
शेखर सिंह
ब्रज के एक सशक्त हस्ताक्षर लोककवि रामचरन गुप्त +प्रोफेसर अशोक द्विवेदी
ब्रज के एक सशक्त हस्ताक्षर लोककवि रामचरन गुप्त +प्रोफेसर अशोक द्विवेदी
कवि रमेशराज
"अजीब दस्तूर"
Dr. Kishan tandon kranti
वो हमसे पराये हो गये
वो हमसे पराये हो गये
Dr. Man Mohan Krishna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
Rj Anand Prajapati
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हर तूफ़ान के बाद खुद को समेट कर सजाया है
हर तूफ़ान के बाद खुद को समेट कर सजाया है
Pramila sultan
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
कितने पन्ने
कितने पन्ने
Satish Srijan
ना धर्म पर ना जात पर,
ना धर्म पर ना जात पर,
Gouri tiwari
उम्र  बस यूँ ही गुज़र रही है
उम्र बस यूँ ही गुज़र रही है
Atul "Krishn"
कविता ....
कविता ....
sushil sarna
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
Kumar lalit
"भीमसार"
Dushyant Kumar
दोस्ती
दोस्ती
लक्ष्मी सिंह
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
समय एक जैसा किसी का और कभी भी नहीं होता।
समय एक जैसा किसी का और कभी भी नहीं होता।
पूर्वार्थ
सुख हो या दुख बस राम को ही याद रखो,
सुख हो या दुख बस राम को ही याद रखो,
सत्य कुमार प्रेमी
*शादी (पाँच दोहे)*
*शादी (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
कब रात बीत जाती है
कब रात बीत जाती है
Madhuyanka Raj
दूर चकोरी तक रही अकास...
दूर चकोरी तक रही अकास...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दर्द आंखों से
दर्द आंखों से
Dr fauzia Naseem shad
"ഓണാശംസകളും ആശംസകളും"
DrLakshman Jha Parimal
Loading...