Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2024 · 1 min read

ये राम कृष्ण की जमीं, ये बुद्ध का मेरा वतन।

गज़ल- 1

ये राम कृष्ण की जमीं, ये बुद्ध का मेरा वतन।
ये सत्य शिव के सुंदरम, से है बना मेरा वतन।

जो गूंजे तान बंशी की तो, नांचे ग्वाल बाल सब,
ये राधिका के कृष्ण का, है मीरा का मेरा वतन।

ये लाल बाल पाल का, ये राणा जैसे वीर का,
ये झांसी वाली रानी की है, वीरता मेरा वतन।

ये गांधी औ’र सुभाष का, भगत का है आजाद का,
ये राजगुरु की फांसी से, मिला खिला मेरा वतन।

ये आगरा के ताज का, है वीर पृथ्वी राज का,
रहीम राम और गुरु, गोविंद का मेरा वतन।

जो लाखों वीर सीमा पर, खड़े हैं सीना तान कर,
ये प्रेमियों के त्याग से, अमर खड़ा मेरा वतन।

……..✍️ सत्य कुमार प्रेमी

32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संस्कारों की पाठशाला
संस्कारों की पाठशाला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सोच
सोच
Srishty Bansal
माचिस
माचिस
जय लगन कुमार हैप्पी
गौ माता...!!
गौ माता...!!
Ravi Betulwala
खुशियाँ
खुशियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
2935.*पूर्णिका*
2935.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रामपुर में थियोसॉफिकल सोसायटी के पर्याय श्री हरिओम अग्रवाल जी
रामपुर में थियोसॉफिकल सोसायटी के पर्याय श्री हरिओम अग्रवाल जी
Ravi Prakash
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
जन्म-जन्म का साथ.....
जन्म-जन्म का साथ.....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
Rj Anand Prajapati
सुविचार
सुविचार
Dr MusafiR BaithA
न  सूरत, न  शोहरत, न  नाम  आता  है
न सूरत, न शोहरत, न नाम आता है
Anil Mishra Prahari
कोहिनूराँचल
कोहिनूराँचल
डिजेन्द्र कुर्रे
अपने जीवन के प्रति आप जैसी धारणा रखते हैं,बदले में आपका जीवन
अपने जीवन के प्रति आप जैसी धारणा रखते हैं,बदले में आपका जीवन
Paras Nath Jha
"सूर्य -- जो अस्त ही नहीं होता उसका उदय कैसे संभव है" ! .
Atul "Krishn"
बिषय सदाचार
बिषय सदाचार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
!..........!
!..........!
शेखर सिंह
भूलना..
भूलना..
हिमांशु Kulshrestha
"मनुष्यता से.."
Dr. Kishan tandon kranti
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हमारी प्यारी मां
हमारी प्यारी मां
Shriyansh Gupta
कहीं साथी हमें पथ में
कहीं साथी हमें पथ में
surenderpal vaidya
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Awadhesh Singh
देह से विलग भी
देह से विलग भी
Dr fauzia Naseem shad
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*कहां किसी को मुकम्मल जहां मिलता है*
*कहां किसी को मुकम्मल जहां मिलता है*
Harminder Kaur
क्या कहूँ
क्या कहूँ
Ajay Mishra
मेरे अंदर भी इक अमृता है
मेरे अंदर भी इक अमृता है
Shweta Soni
गं गणपत्ये! माँ कमले!
गं गणपत्ये! माँ कमले!
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...