Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2017 · 1 min read

ये प्रातः तुम्हें सजानी है

ओ भारत की भावी नारी !
बहुत सो चुकी अब तो जागो ,
ये प्रातः तुम्हें सजानी है ।

मत बोझ बनो तुम परिवारों पर
सिर्फ भार बनो मत तुम धरती पर
सीखो मत सिर्फ बंधन में रहना,
लक्ष्य बना लो कुछ करके है दिखलाना
इस युग को प्रतीक्षा सिर्फ तुम्हारी है ।
ओ भारत की भावी नारी …..

क्यों सहती हो कष्टों को तुम ,
क्या सहना ही तुम्हारा जीवन है
कम करो सहनशीलता अपनी ,
भावना लाओ मन में कुछ करने की ,
इस नवयुग को प्रतीक्षा सिर्फ तुम्हारी है
ओ भारत की भावी नारी ….

बहुत रो रही हैे यह भारत माँ तुम्हारी
भ्रष्ट हो रही हैं इसकी संताने सारी
सीता और जीजाबाई जैसी माँ
एक बार फिर बन जाओ तुम
लव कुश और वीर शिवा सी
इनकी सीख सिखाओ तुम ।
इस युग को प्रतीक्षा सिर्फ तुम्हारी है ।

ओ भारत की भावी नारी !
बहुत सो चुकी अब तो जागो
ये प्रातः तुम्हें सजानी है ।
ये प्रातः तुम्हें सजानी है ।

डॉ रीता

Language: Hindi
293 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rita Singh
View all
You may also like:
देखते देखते मंज़र बदल गया
देखते देखते मंज़र बदल गया
Atul "Krishn"
वक्त के आगे
वक्त के आगे
Sangeeta Beniwal
या रब
या रब
Shekhar Chandra Mitra
*बहुत सस्ते में सौदा हो गया लोगों के वोटों का (हिंदी गजल/ गी
*बहुत सस्ते में सौदा हो गया लोगों के वोटों का (हिंदी गजल/ गी
Ravi Prakash
उगाएँ प्रेम की फसलें, बढ़ाएँ खूब फुलवारी।
उगाएँ प्रेम की फसलें, बढ़ाएँ खूब फुलवारी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
3130.*पूर्णिका*
3130.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुद्रा नियमित शिक्षण
मुद्रा नियमित शिक्षण
AJAY AMITABH SUMAN
इतना तो आना चाहिए
इतना तो आना चाहिए
Anil Mishra Prahari
बापू तेरे देश में...!!
बापू तेरे देश में...!!
Kanchan Khanna
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
विधा:
विधा:"चन्द्रकान्ता वर्णवृत्त" मापनी:212-212-2 22-112-122
rekha mohan
संन्यास के दो पक्ष हैं
संन्यास के दो पक्ष हैं
हिमांशु Kulshrestha
अंधेरे के आने का खौफ,
अंधेरे के आने का खौफ,
Buddha Prakash
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
हसीनाओं से कभी भूलकर भी दिल मत लगाना
हसीनाओं से कभी भूलकर भी दिल मत लगाना
gurudeenverma198
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐अज्ञात के प्रति-96💐
💐अज्ञात के प्रति-96💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"कुएं का मेंढक" होना भी
*Author प्रणय प्रभात*
यूं ही आत्मा उड़ जाएगी
यूं ही आत्मा उड़ जाएगी
Ravi Ghayal
जमाना नहीं शराफ़त का (सामायिक कविता)
जमाना नहीं शराफ़त का (सामायिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कसौटी
कसौटी
Astuti Kumari
मुद्दा मंदिर का
मुद्दा मंदिर का
जय लगन कुमार हैप्पी
"तवा और औरत"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यारा बंधन प्रेम का
प्यारा बंधन प्रेम का
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हैप्पी न्यू ईयर 2024
हैप्पी न्यू ईयर 2024
Shivkumar Bilagrami
गुजारे गए कुछ खुशी के पल,
गुजारे गए कुछ खुशी के पल,
Arun B Jain
याद तो हैं ना.…...
याद तो हैं ना.…...
Dr Manju Saini
मां ने जब से लिख दिया, जीवन पथ का गीत।
मां ने जब से लिख दिया, जीवन पथ का गीत।
Suryakant Dwivedi
Loading...