Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Aug 2022 · 1 min read

ये निम खामोशी तुम्हारी ( पूर्व प्रधान मंत्री श्री अटल जी की याद में )

कई सालों से खामोश थे तुम ,
और तुम्हारी कलम भी खामोश थी।

ज़िन्दगी और मौत से लड़ रहे थे ,
मगर यह जंग तो आख़िरी थी ।

फर्क तुमने कथनी/ करनी में ना किया,
मौत और काल से जितने की जो ठानी थी ।

साहित्य के महारथी /राजनीति के महागुरु ,
तुम्हारी महानता के समक्ष मौत नगण्य थी ।

ओजस्वी वाणी और सिंह सा बाहू-बल ,
सारी दुनिया तुम्हारा लोहा मानती थी।

दिल में अथाह प्रेम और सोहाद्र ऐसा ,
शत्रु कोई था नहीं,मित्रता सभी से थी।

हे जन नायक ,जन कवि , जन नेता!,
सारे देश की मुहोबत सदा तुम्हारे साथ थी।

सच्चाई, देशप्रेम ,सादगी और सद चरित्रता,
तुम्हारे पवित्र व्यक्तित्व की पहचान थी ।

यूँ तो खामोश थे तुम कई सालों से मगर ,
इस निम् ख़ामोशी की हमें उम्मीद ना थी ।

तुम्हारी सलामती की दुआ करते रहे हम सदा ,
हम क्या जाने भला, ईश्वर की क्या मर्ज़ी थी।

हम तो तुम्हारे छत्र -छाया में रहे बेखबर ,
यह बिजली हमपर ही क्यों आखिर गिरनी थी।

अब तो जीना होगा तुम्हारे बगैर , सो जी लेंगे ,पूरा करेंगे देश की तस्वीर,जिसकी कल्पना तुमने की ।

यह भरोसा करकेके तुम मरके भी हो हमारे साथ,
सदा उन राहों पर चलेंगे ,जो राह तुमने दिखाई थी।

Language: Hindi
1 Like · 250 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
अच्छा इंसान
अच्छा इंसान
Dr fauzia Naseem shad
नज़्म
नज़्म
Shiva Awasthi
*कैसे हम आज़ाद हैं?*
*कैसे हम आज़ाद हैं?*
Dushyant Kumar
किस बात का गुमान है
किस बात का गुमान है
भरत कुमार सोलंकी
■ बड़ा सवाल...
■ बड़ा सवाल...
*प्रणय प्रभात*
मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
मैं नहीं तो कोई और सही
मैं नहीं तो कोई और सही
Shekhar Chandra Mitra
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
ओसमणी साहू 'ओश'
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
Shashi kala vyas
इन चरागों का कोई मक़सद भी है
इन चरागों का कोई मक़सद भी है
Shweta Soni
" मेरा रत्न "
Dr Meenu Poonia
सुनबऽ त हँसबऽ तू बहुते इयार
सुनबऽ त हँसबऽ तू बहुते इयार
आकाश महेशपुरी
प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
SHAMA PARVEEN
23/203. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/203. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ओ परबत  के मूल निवासी
ओ परबत के मूल निवासी
AJAY AMITABH SUMAN
*ए फॉर एप्पल (लघुकथा)*
*ए फॉर एप्पल (लघुकथा)*
Ravi Prakash
ऋतुराज
ऋतुराज
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
खुशकिस्मत है कि तू उस परमात्मा की कृति है
खुशकिस्मत है कि तू उस परमात्मा की कृति है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
Surya Barman
प्यारा भारत देश है
प्यारा भारत देश है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
पापा के वह शब्द..
पापा के वह शब्द..
Harminder Kaur
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
shabina. Naaz
Thunderbolt
Thunderbolt
Pooja Singh
मेरी कलम
मेरी कलम
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
जीवन
जीवन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
विकृतियों की गंध
विकृतियों की गंध
Kaushal Kishor Bhatt
कविता माँ काली का गद्यानुवाद
कविता माँ काली का गद्यानुवाद
गुमनाम 'बाबा'
"मेरी जिम्मेदारी "
Pushpraj Anant
शिखर पर पहुंचेगा तू
शिखर पर पहुंचेगा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शून्य
शून्य
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...