Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

ये जो उच्च पद के अधिकारी है,

ये जो उच्च पद के अधिकारी है,
इनको एक अजीब सी बीमारी है।
रौब जमाते है सब पर अपना,
दूसरो को नीचा दिखाने की हर पल तैयारी है।
✍️ लक्ष्मी वर्मा ‘प्रतीक्षा’

40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जमाना खराब है
जमाना खराब है
Ritu Asooja
जरासन्ध के पुत्रों ने
जरासन्ध के पुत्रों ने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नयी सुबह
नयी सुबह
Kanchan Khanna
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
बचपन अपना अपना
बचपन अपना अपना
Sanjay ' शून्य'
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा ना करें
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा ना करें
$úDhÁ MãÚ₹Yá
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
gurudeenverma198
आफ़त
आफ़त
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
"बात सौ टके की"
Dr. Kishan tandon kranti
जी-२० शिखर सम्मेलन
जी-२० शिखर सम्मेलन
surenderpal vaidya
ना चाहते हुए भी रोज,वहाँ जाना पड़ता है,
ना चाहते हुए भी रोज,वहाँ जाना पड़ता है,
Suraj kushwaha
छूटा उसका हाथ
छूटा उसका हाथ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
कमी नहीं थी___
कमी नहीं थी___
Rajesh vyas
हम और तुम जीवन के साथ
हम और तुम जीवन के साथ
Neeraj Agarwal
पागल मन कहां सुख पाय ?
पागल मन कहां सुख पाय ?
goutam shaw
किसी को उदास देखकर
किसी को उदास देखकर
Shekhar Chandra Mitra
है कहीं धूप तो  फिर  कही  छांव  है
है कहीं धूप तो फिर कही छांव है
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
"व्‍यालं बालमृणालतन्‍तुभिरसौ रोद्धुं समज्‍जृम्‍भते ।
Mukul Koushik
रामकली की दिवाली
रामकली की दिवाली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उदघोष
उदघोष
DR ARUN KUMAR SHASTRI
औरतें नदी की तरह होतीं हैं। दो किनारों के बीच बहतीं हुईं। कि
औरतें नदी की तरह होतीं हैं। दो किनारों के बीच बहतीं हुईं। कि
पूर्वार्थ
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
Dr.Rashmi Mishra
पर्वतों से भी ऊॅ॑चा,बुलंद इरादा रखता हूॅ॑ मैं
पर्वतों से भी ऊॅ॑चा,बुलंद इरादा रखता हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
यह दुनिया है जनाब
यह दुनिया है जनाब
Naushaba Suriya
रामभरोसे चल रहा, न्यायालय का काम (कुंडलिया)
रामभरोसे चल रहा, न्यायालय का काम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
#वाल्मीकि_जयंती
#वाल्मीकि_जयंती
*Author प्रणय प्रभात*
2735. *पूर्णिका*
2735. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*
*"शिक्षक"*
Shashi kala vyas
षड्यंत्रों की कमी नहीं है
षड्यंत्रों की कमी नहीं है
Suryakant Dwivedi
Loading...