Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2023 · 1 min read

ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी

ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
जिसने हिला के रख दी यजीदियत की चूल थी…
तेरी वो बादशाहत दो दिन की थी यजीद
बेशक मेरे हुसैन को शहादत कुबूल थी
दुनिया को जीत लेगा तू तेरी ये भूल थी
दुनिया मेरे हुसैन के कदमों की धूल थी
वो जिनमे बेपनाह सब्र ओं रज़ा ही शमूल थी
वो जिनको कायनात की नेमत हुसूल थी
हर बात बा असर और बा उसूल थी
देनी थी जान हक पे तो दुनियां फ़ूजूल थी…..
.shabinaZ

309 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
Growth requires vulnerability.
Growth requires vulnerability.
पूर्वार्थ
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
Neeraj Agarwal
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
फ़ितरत
फ़ितरत
Kavita Chouhan
कल आज और कल
कल आज और कल
Omee Bhargava
खो गए हैं ये धूप के साये
खो गए हैं ये धूप के साये
Shweta Soni
आईने में देखकर खुद पर इतराते हैं लोग...
आईने में देखकर खुद पर इतराते हैं लोग...
Nitesh Kumar Srivastava
मायड़ भौम रो सुख
मायड़ भौम रो सुख
लक्की सिंह चौहान
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ११)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ११)
Kanchan Khanna
*सॉंप और सीढ़ी का देखो, कैसा अद्भुत खेल (हिंदी गजल)*
*सॉंप और सीढ़ी का देखो, कैसा अद्भुत खेल (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
उसने  कहा जो कुछ  तो   पहले वो
उसने कहा जो कुछ तो पहले वो
shabina. Naaz
रामेश्वरम लिंग स्थापना।
रामेश्वरम लिंग स्थापना।
Acharya Rama Nand Mandal
अपने बच्चों का नाम लिखावो स्कूल में
अपने बच्चों का नाम लिखावो स्कूल में
gurudeenverma198
* शक्ति आराधना *
* शक्ति आराधना *
surenderpal vaidya
शिक्षक दिवस पर गुरुवृंद जनों को समर्पित
शिक्षक दिवस पर गुरुवृंद जनों को समर्पित
Lokesh Sharma
वक़्त होता
वक़्त होता
Dr fauzia Naseem shad
मैं नन्हा नन्हा बालक हूँ
मैं नन्हा नन्हा बालक हूँ
अशोक कुमार ढोरिया
2474.पूर्णिका
2474.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
manjula chauhan
बेअदब कलम
बेअदब कलम
AJAY PRASAD
জীবনের অর্থ এক এক জনের কাছে এক এক রকম। জীবনের অর্থ হল আপনার
জীবনের অর্থ এক এক জনের কাছে এক এক রকম। জীবনের অর্থ হল আপনার
Sakhawat Jisan
*जमीं भी झूमने लगीं है*
*जमीं भी झूमने लगीं है*
Krishna Manshi
🕊️एक परिंदा उड़ चला....!
🕊️एक परिंदा उड़ चला....!
Srishty Bansal
"सपनों में"
Dr. Kishan tandon kranti
यूँ ही ऐसा ही बने रहो, बिन कहे सब कुछ कहते रहो…
यूँ ही ऐसा ही बने रहो, बिन कहे सब कुछ कहते रहो…
Anand Kumar
बाल विवाह
बाल विवाह
Mamta Rani
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
Sandeep Kumar
■ त्रिवेणी धाम : हरि और हर का मिलन स्थल
■ त्रिवेणी धाम : हरि और हर का मिलन स्थल
*प्रणय प्रभात*
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Loading...