Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-376💐

ये चाँदनी क्यों ठग रही है मुझे,
हर शय तुमसा लग रही है मुझे,
अब बे-एतिबार की मत कहना,
दुनिया बे-ज़र सी लग रही है मुझे,

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
152 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
11) “कोरोना एक सबक़”
11) “कोरोना एक सबक़”
Sapna Arora
ज़िंदगी की जद्दोजहद
ज़िंदगी की जद्दोजहद
Davina Amar Thakral
3027.*पूर्णिका*
3027.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इतनी बिखर जाती है,
इतनी बिखर जाती है,
शेखर सिंह
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
SPK Sachin Lodhi
एक देश एक कानून
एक देश एक कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"प्यार"
Dr. Kishan tandon kranti
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अयोध्या धाम
अयोध्या धाम
Mukesh Kumar Sonkar
इंद्रदेव समझेंगे जन जन की लाचारी
इंद्रदेव समझेंगे जन जन की लाचारी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
लोग ऐसे दिखावा करते हैं
लोग ऐसे दिखावा करते हैं
ruby kumari
आग लगाते लोग
आग लगाते लोग
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
विमला महरिया मौज
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आबाद सर ज़मीं ये, आबाद ही रहेगी ।
आबाद सर ज़मीं ये, आबाद ही रहेगी ।
Neelam Sharma
ना मसले अदा के होते हैं
ना मसले अदा के होते हैं
Phool gufran
******** प्रेरणा-गीत *******
******** प्रेरणा-गीत *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇮🇳
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरी माँ
मेरी माँ
Pooja Singh
खूबसूरत जिंदगी में
खूबसूरत जिंदगी में
Harminder Kaur
एहसास
एहसास
भरत कुमार सोलंकी
बहुत
बहुत
sushil sarna
* लोकतंत्र महान है *
* लोकतंत्र महान है *
surenderpal vaidya
*
*"माँ वसुंधरा"*
Shashi kala vyas
पसंद प्यार
पसंद प्यार
Otteri Selvakumar
कुपमंडुक
कुपमंडुक
Rajeev Dutta
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
🌸अनसुनी 🌸
🌸अनसुनी 🌸
Mahima shukla
*छतरी (बाल कविता)*
*छतरी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Loading...